संस्कार

0 second read
0
0
1,287

‘जिस    मित्र    की    संगत   करने    से ‘  ‘ मन   में    सुविचार    ही    आयें  ‘,

‘जिस   गुरु   की   प्रेरणा   से ‘ ‘ हमारे   चरित्र   का’  ‘ आधार   ही   बदल   जाए’ ,

‘जिस    परिवार   के   संस्कार ‘   ‘हर   प्राणी  के   लिए’  ‘ दर्पण   का   काम   करें ‘ ,

‘ऐसे    वातावरण    की    सुगंध ‘  ‘ पाने    के    लिए     लालायत    रहो   सदा  ‘|

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In प्रेरणादायक कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…