Home कहानी Spirituality Stories “श्री मद-भगवत गीता ” की पूरी जानकारी संक्षिप्त रूप में सभी को होनी चाहिये | हमारा धर्म-ग्रंथ |

“श्री मद-भगवत गीता ” की पूरी जानकारी संक्षिप्त रूप में सभी को होनी चाहिये | हमारा धर्म-ग्रंथ |

18 second read
0
0
436
“श्री   मद्-भगवत   गीता”  के   बारे   में-
ॐ . किसको   किसने   सुनाई  ?
उ.- श्रीकृष्ण   ने   अर्जुन   को   सुनाई  ।
ॐ . कब   सुनाई  ?
उ.- आज   से   लगभग   7 हज़ार  साल   पहले   सुनाई  ।
ॐ. भगवान   ने   किस   दिन   गीता   सुनाई  ?
उ.- रविवार   के   दिन  ।
ॐ. कोन  सी   तिथि   को  ?
उ.-   एकादशी
ॐ.   कहा   सुनाई  ?
उ.-   कुरुक्षेत्र   की   रणभूमि   में  ।
ॐ.   कितनी   देर   में   सुनाई  ?
उ.-   लगभग   45  मिनट   में
ॐ.   क्यू   सुनाई  ?
उ.- कर्त्तव्य   से   भटके   हुए   अर्जुन   को   कर्त्तव्य   सिखाने   के   लिए   और   आने   वाली   पीढियों   को   धर्म-ज्ञान   सिखाने   के   लिए  ।
ॐ.  कितने   अध्याय   है  ?
उ.-   कुल   18   अध्याय  |
ॐ.   कितने   श्लोक   है  ?
उ.-   700   श्लोक
*ॐ.   गीता   में   क्या-क्या   बताया   गया   है  ?
उ.-   ज्ञान – भक्ति- कर्म   योग   मार्गो   की   विस्तृत   व्याख्या   की   गयी   है  ,   इन   मार्गो   पर   चलने   से   व्यक्ति   निश्चित   ही   परमपद   का        अधिकारी   बन   जाता   है  ।
ॐ.   गीता   को   अर्जुन   के   अलावा  और   किन   किन   लोगो   ने   सुना  ?
उ.-   धृतराष्ट्र   एवं   संजय   ने
ॐ.   अर्जुन   से   पहले   गीता   का   पावन   ज्ञान   किन्हें   मिला   था  ?
उ.-   भगवान   सूर्यदेव   को
ॐ.   गीता   की   गिनती   किन   धर्म-ग्रंथो   में   आती   है  ?
उ.-   उपनिषदों   में
ॐ.   गीता   किस   महाग्रंथ   का   भाग   है….?
उ.-   गीता   महाभारत   के   एक   अध्याय   शांति-पर्व   का   एक   हिस्सा   है  ।
ॐ.   गीता   का   दूसरा   नाम   क्या   है  ?
उ.-   गीतोपनिषद
ॐ.   गीता   का   सार   क्या   है  ?
उ.-   प्रभु   श्रीकृष्ण   की   शरण   लेना
ॐ.   गीता   में   किसने   कितने   श्लोक   कहे   है  ?
उ.-   श्रीकृष्ण   जी   ने-  574
अर्जुन  ने-  85
धृतराष्ट्र  ने – 1
संजय  ने – 40.
अपनी   युवा-पीढ़ी   को   गीता   जी   के   बारे   में   जानकारी   पहुचाने   हेतु   इसे   ज्यादा   से   ज्यादा   शेअर   करे  ।   धन्यवाद  |
Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Spirituality Stories

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘रोते’ के ‘आसूं’ न पोंछे, वह ‘रिस्ता’ किस काम का ?जो ‘मुस्कराने’ के ‘गुर’ सिखाये, ‘गले’ से लगा लेना |

[1] जरा सोचो ‘ एहसान-फरामोशी ‘  एक  दिन  तुमको  ‘ डुबो ‘  देगी, &#…