Home जीवन शैली ‘शयन के सही नियम ‘-‘पुराने शास्त्रों से आभार ‘ |

‘शयन के सही नियम ‘-‘पुराने शास्त्रों से आभार ‘ |

2 second read
0
0
2,779

?शयन  के  नियम?

?सूने   घर   में   अकेला   नहीं   सोना   चाहिए  ।  देव  मन्दिर   और   श्मशान में   भी   नहीं   सोना   चाहिए  । (मनुस्मृति)
?किसी   सोए   हुए   मनुष्य   को   अचानक   नहीं   जगाना   चाहिए । (विष्णुस्मृति)
?विद्यार्थी ,  नौकर   औऱ   द्वारपाल  ,  ये   ज्यादा   देर   तक   सोए   हुए  हों    तो ,  इन्हें   जगा   देना   चाहिए  । (चाणक्यनीति)


?स्वस्थ   मनुष्य   को   आयु  रक्षा   हेतु   ब्रह्म  मुहुर्त   में   उठना   चाहिए  । (देवीभागवत)


?बिल्कुल   अंधेरे   कमरे   में   नहीं   सोना   चाहिए  । (पद्मपुराण)


?भीगे   पैर   नहीं   सोना   चाहिए  ।   सूखे   पैर   सोने   से   लक्ष्मी  (धन)      की   प्राप्ति   होती   है  । (अत्रिस्मृति)


?टूटी   खाट   पर   तथा   जूठे   मुंह   सोना   वर्जित   है  । (महाभारत)


 ?पूर्व   की   तरफ   सिर   कर  के   सोने   से   विद्या  ,  पश्चिम   की   ओर        सिर   करके   सोने   से   प्रबल   चिन्ता ,  उत्तर   की   ओर   सिर   कर  के सोने        से   हानि   व   मृत्यु  ,  तथा   दक्षिण   की   तरफ   सिर   कर  के   सोने   से धन       व   आयु   की   प्राप्ति   होती   है  । (आचारमय़ूख)


?दिन   में   कभी   नही   सोना   चाहिए  ।  परन्तु   जेष्ठ   मास   मे   दोपहर      के   समय   एक   मुहूर्त   (48 मिनट)  के   लिए   सोया   जा   सकता   है  । (जो   दिन   मे   सोता   है   उसका   नसीब   फुटा   है  )


?दिन   में   तथा   सुर्योदय   एवं   सुर्यास्त   के   समय   सोने   वाला  रोगी     और   दरिद्र   हो   जाता   है  । (ब्रह्मवैवर्तपुराण)


?सूर्यास्त   के   एक   प्रहर   (  लगभग  3  घंटे )  के   बाद   ही   शयन         करना   चाहिए  ।


?बायीं   करवट   सोना   स्वास्थ्य   के  लिये   हितकर   हैं  ।


?दक्षिण   दिशा   (South)   में   पाँव   रखकर   कभी   नही   सोना   चाहिए । यम   और   दुष्ट  देवों   का   निवास   रहता   है ।   कान   में   हवा   भरती   है  । मस्तिष्क   में   रक्त   का   संचार   कम   को   जाता   है   स्मृति- भ्रंश,   मौत  व असंख्य   बीमारियाँ   होती   है  ।


?ह्रदय   पर   हाथ   रख  कर ,  छत   के   पाट   या   बीम   के   नीचें   न   सोए |


?पाँव   प
र   पाँव   चढ़ा  कर   निद्रा   न   लें  ।


?शय्या   पर   बैठ  कर   खाना  -पीना   अशुभ   है  ।


?सोते   सोते   पढना   नहीं   चाहिए  ।


?ललाट   पर   तिलक   लगा  कर   सोना   अशुभ   है  ।   इसलिये  सोते        वक्त   तिलक   हटा   दें  ।


?? जय राधे राधे ??

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In जीवन शैली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…