Home कविताएं प्रेरणादायक कविता ‘शमशान जाना निश्चित है ‘,कुछ सुकर्म करता जा !

‘शमशान जाना निश्चित है ‘,कुछ सुकर्म करता जा !

0 second read
0
0
1,239

‘अच्छा  व्यक्ति जब  संसार  से  बिदा  होता  है’ , ‘ हर  व्यक्ति   आंसूँ  बहाता   है’ ,

‘बुरा  व्यक्ति  जब  मरता  है’,’सभी  कहते  हैं,’ ‘अच्छा  हुआ दुनिया से चला गया’ ,

दोस्तों ! ‘अभिमान  त्याग कर’  ‘सत्कर्म  के  कुंड  में   तपो’  ,’ कुन्दन   बनो  ‘ ,

‘शमशान   जाना   तो  निश्चित  है’,’अच्छे  कर्मों  का  चिट्ठा’  ‘साथ  लेता  जा’  | 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In प्रेरणादायक कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…