Home कविताएं प्रेरणादायक कविता ‘शब्दों को सोच कर बोलो सदा’ !

‘शब्दों को सोच कर बोलो सदा’ !

1 second read
0
0
1,343

शब्दों   में   वो   ताकत   है  ‘ , ‘ दिल  की  तोड़  सकते  हैं ‘,’जोड़  सकते  हैं ‘,

‘शर्मिंदा   कर  सकते   हैं ‘, ‘ सहानुभूति   से  आत्म-विभोर   कर  सकते  हैं ‘,

‘सम्बन्धों  को  तोड़  सकते  हैं ‘,नए/टूटे  सम्बन्धों   का  पुल  बन  सकते  हैं ,’

‘सपनों   को   सज़ा  सकते   हैं ‘, ‘जीवन  में  ऊर्जा   पल्लवित  कर  सकते  हैं ‘,

अपने  बोलते  समय   के  शब्दों   के  भंडार  का,’ ‘ सद -उपयोग  करना  सीखो ‘,

‘ये  वो  तीर  हैं’ ‘ जो  तरकस  से  बाहर  निकलने  के  बाद ‘,’ वापिस  नहीं  आते ‘|

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In प्रेरणादायक कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…