Home ज्ञान “विश्व का सबसे विचित्र मंदिर जो 1500 वर्षों से आकाश में लटक रहा है ” !

“विश्व का सबसे विचित्र मंदिर जो 1500 वर्षों से आकाश में लटक रहा है ” !

0 second read
0
0
1,265

विश्व   का   सबसे   विचित्र   मंदिर ,  1500  सालो   से   लटक   रहा   है   आकाश   में  | जानिए…

हमने  दुनिया   के   कई   मंदिरो   के   बारे   में   सुना   है   जो   अपनी   सुन्दर   शिल्प   कला   के   लिए   प्रसिद्ध   है   |   लेकिन   क्या   आपने   ऐसे   मंदिर   के बारे    में   सुना   है   जो   आकाश   में   लटक    रहा   हो   | 

आज   हम   आपको   ऐसे   ही   विचित्र   मंदिर   के   बारे   में   बताएँगे   जो   कई   सदियों   से आकाश   में   आधा   लटक   रहा   है  | 

किसी   भी   देश   में   मंदिर   लोगो   की   आस्था   का   केंद्र   होते   है  |  यह   देश   को   एकजुटता   के   सूत्र   में   पिरोते   है   |  दुनिया   में   ऐसे   बहुत    सारे   मंदिर   जो   अपने   शिल्प  सौंदर्य   के   कारण   चर्चित   है   | 
इन्हे   देखने   के   लिए   दुनिया   भर   से   लोग   आते   है  ,  लेकिन   आज   जो   हम   जिस   मंदिर   के   बारे   में   आपको  बताने   जा   रहे   है   उसके  बारे     हो   सकता  है  अपने   नहीं   सुना   हो ,  यह   मंदिर   एशिया   के   सबसे   ताकतवर   देश  ” चीन ”  में   स्थित   है  |  
चीन   के   शांझी   में   एक   पर्वत   है  ,   जिसे  ” हेंग   माउंटेन ”  कहते   है   |  इसी   पर्वत   पर   यह   मंदिर   स्थित   है  |  इस   मंदिर   का   निर्माण   इस    तरह   से   हुआ   है   की   यह   आधा   पर्वत   पर   और   आधा   बिना   किसी   सहारे   (   आकाश   में   )   स्थित   हुआ   है   |  ऐसा   कहा   जाता   है   की        इस   मंदिर   का   निर्माण   1500   वर्ष   पहले   किया   गया   था   | 
धर्म   ग्रंथो   में   ऐसा   कहा   जाता   है   की   इस   मंदिर   का   निर्माण   उत्तरी   वेई   साम्राज्य   के   लिओ   रेन   नाम   के   शख्स   द्वारा   किया   गया   
था |  लेकिन  उन्होंने   इसका  आंशिक   भाग   ही   बनवाया   था   |
दरअसल   शांझी   चीन   का   वह   इलाका   है  ,   जहाँ   बाढ़   सर्वाधिक   आती   है   |   इसलिए   इस   मंदिर   को   एक   पर्वत   पर   बनाया   गया   है  ताकि प्राकृतिक   आपदा   के   कारण   लोगो   की   श्रद्धा   ईश्वर   के   प्रति   कम   ना   हो   | 
            इस   मंदिर   को   हैंगिंग   मॉनेस्ट्री   के   नाम   से   जाना   जाता   है   |   इस   मंदिर   को   चीन   में   बौद्ध  धर्म ,  ताओ   धर्म   और   कंफुशिवाद      की   मिलनस्थली   के   रूप   में   जाना   जाता   है  | 
इस   मंदिर   में   जाने   के   लिए   लकड़ी   और   लोहे   की   सीढ़ियां   है   |   इस   मंदिर   का   अधिकांशतः   भाग   लकड़ी   से   ही   मिल  कर   बना   हुआ   है  | सिर्फ   कुछ   ही   भाग   में   लोहे   का   प्रयोग   किया   है   |   यह   मंदिर   चीन   के   प्रमुख   मंदिरो   में   से   एक   है   |   जो   लोग   आर्किटेक्ट   का  अध्धयन करते   है  ,   यह   मंदिर   उनकी   पहली   पसंद   होता   है   | 
 क्योंकि   यह   1500   सालो   पहले   बना   था   |   लेकिन   अभी   तक   अधिक   क्षतिग्रस्त नहीं   हुआ   है   |   चीन   में   आने   वाले   पर्यटकों   की   पहली   पसंद   यह   मंदिर   ही   है   |
Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In ज्ञान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…