Home ज्ञान ‘ लोह पुरुष सरदार पटेल ‘ –‘हमारे देश का गौरव ‘ !

‘ लोह पुरुष सरदार पटेल ‘ –‘हमारे देश का गौरव ‘ !

2 second read
0
0
1,033

Image may contain: people standing, sky, outdoor and nature

यह  प्रतिमा  भारत  के  लोह  पुरुष  कहे  जाने  वाले ”  सरदार  पटेल  ” की  है  | इस  प्रतिमा  की  ऊंचाई  182  मीटर  है  |  इसकी  वजह    

यह  है  की  गुजरात  में   विधानसभा  की  182  सीटें   हैं   और   इन   सबकी  नुमाइन्दगी   इस  प्रतिमा   में   दिखने    की  कोशिश  की  गयी   है  |  

31  अक्टूबर   को  सरदार  पटेल  का  जन्मदिन  भी  है  |

इस  प्रतिमा  को  2,989  करोड़  रुपये  की  लागत  से  तैयार  किया  गया  है  | 4076  मजदूरों   ने   2  शिफ्टों   में   काम   किया  |  इसमें  800 स्थानीय  और  200   चीन  से  आए  कारीगरों  ने  काम  किया  |  प्रतिमा   परिसर  में  एक  ” प्रदर्शनी  मंज़िल ” ,” एक  ममोरियल   गार्डन ” और  ” एक  बड़ा  संग्रहालय  ”  है  |  संग्रहालय  में   सरदार  पटेल   की  जिंदगी  से  जुड़ी   कई  चीजों  को  सहेजा  गया  है  |  इसमें


  उनके  करसमद   में  जन्म  से   ले  कर  लोह   पुरुष   बनाने   तक   की   यात्रा  ,  व्यक्तिगत   जिंदगी  और  गुजरात   से   जुड़ाव   को  देखा  जा  सकता  है  |

यह   प्रतिमा  ” स्टेचू   ऑफ   लिबर्टी  ”   की   ऊंचाई   से   दोगुनी   और   पियो    डी   जनेरों  ”  क्राइस्ट   द  रीडिमर  ”  से   चार   गुनी   होगी  | 

प्रोजेक्ट  की  घोषणा   2010  में  की  गयी  थी  , जब  श्री  मोदी   जी  मुख्यमंत्री   हुआ  करते  थे  |  अक्टूबर  2013   में  तब  मुख्यमंत्री  

रहे  श्री  मोदी  ने  इसकी  आधारशिला  रक्खी  थी   और  इंजीनीयरिंग  कम्पनी  एल एण्ड  टी  को   इसका  कांट्रेक्ट   दिया  गया  था  |

इसके  बाद  से  ही  इसका   निर्माण   कर  दिया  गया  था  |

निर्माण   में   25000   टन   लोहे   और   90000   टन   सीमेंट   का   इस्तेमाल   किया   गया   था  |  मूर्ति    से   पटेल    की   वह       सादगी   भी    झलकती   है   ,  जिसमें   सिलवटों    वाला   धोती – कुर्ता  ,  बड़ी   और   कंधे   पर  चादर   उनकी   पाहचान   थी   |  ये         सब   मूर्ति   में   ढल    चुका    है  |  श्री   मोदी  जी   ने   देश   के   कोने – कोने   से  लोहा   मांगा  था  ,  ताकि    वह   लोह   पटेल   के      सपनों   को   फौलादी   बना   दे  |  

 

 

 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In ज्ञान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…