Home जीवन शैली सेहत रेकी ( बायोफिडबैक थैरेपी )

रेकी ( बायोफिडबैक थैरेपी )

8 second read
0
0
969

यह  विश्व  की  सबसे  श्रेस्ठ्तम  थेरेपी  है  जो  मानसिक  रोगों  व  समस्याओं   को  दूर  करने  के  लिए  प्रयोग  की  जाती  है  |

यह  पूर्ण  वैज्ञानिक  सर्टिफाइड   थेरेपी  है  जो  एक  सफल  व  सुरक्छित   है  | यह  समस्याओं  और  बिमारियों  को  दूर  करने

के  साथ-साथ  गहरी  शांति  का  भी  अनुभव   कराती  है |  आज अमेरिका  और  अन्य  विकसित  देशों  में  इस  थेरेपी  का  सबसे

अधिक  प्रयोग  किया  जा  रहा  है  |

 

मानव  मस्तिष्क   शरीर  की  पांचों  इंद्रियों  के  द्वारा   प्राप्त   जानकारी  के  आधार  पर  हर  समय   कुछ

बायोकैमिकल  बनाता  रहता  है  |  जब  मनुष्य  नकारात्मक  सोचता  है  तो  उसका  मस्तिष्क  विषैले  व  गरम  बायोकैमिकल

बनाता  है | उनका  प्रभाव  हमारे  नाड़ी   तंत्र  पर  पड़ता  है  जिससे  नाड़ी   तंत्र   की  कार्य  प्रणाली  प्रभावित  होती  है  | और

मनुष्य  में   तनाव ,  क्रोध ,  चिडचिड़ापन  , डिप्रेशन  ,  अनिन्द्र   आदि  मनोरोग  उत्पन्न  हो  जाते  हैं  | भौतिक  जीवन  की

हर  वस्तु  व  क्रिया   का  प्रथम   निर्माण  मानव  मस्तिष्क  में  होता  है  फिर  वह  प्रकट  रूप  में  हमें  प्राप्त  होती  है  अतः

इंसान  जैसा  सोचता  है  वैसा  ही  घटनाएँ  उसके  जीवन  में  घट  जाती  हैं  | जीवन  में  खुशी  , आनंद  , पूर्ण  स्वास्थ्य

प्राप्त  करने  के  लिए  इंसान  का  सकारात्मक  होना  बहुत  जरूरी  है   अन्यथा  वह  नकारात्मक   सोच  कर  स्वम  ही

अपने  जीवन  में  जहर  घोल  रहा  होता  है  |

 

रेकी  द्वारा   इलाज़  करवाने   पर  निम्न  प्रकार  फायदा  उठा  सकते  हैं :-

 

1   मानसिक  रोग  —जैसे   अनिंद्रा  ,  डिप्रेशन  ,  तनाव  , अत्यधिक  क्रोध  , हीन  भावना  , हिस्टीरिया  ,  चिड़चिड़ापन ,

आत्म  हत्या  के  विचार  , व्यावहारिक  समस्या  , आत्म विश्वास  वृद्धि  , भावनात्मक  हो  कर  रो  देना    आदि  |

 

2  भय  और  संशय  :-  अंधेरे  से  डर   , ऊंचाई  का  डर  , दुर्घटनाओं  का  डर   , बीमार  होने  का  डर  ,  बंद  स्थान  पर  जाने

से  दर ,  अकेले  में  डर  ,  मर्त्यु   का  डर   आदि  |

 

3  विद्यार्थियों  की  समस्याएँ  :-  परीक्षा  की  चिंता ,  बुरी  आदतें  , एकाग्रता  की  कमी  , लक्ष- प्राप्ति  की  चिंता  , अच्छा  खेल

प्रदर्शन  करना , श्रेष्ठ  वक्ता  बनाने  की  चिंता ,  मानसिक  रूप  से  मजबूत  बनना , स्कूल  के  नियमों  में  ढलना   आदि  |

 

उपरयुक्त  उलझनों  में  रेकी  द्वारा  इलाज़  करने  से  आप  स्वस्थ   हो  सकते  हैं  |  सारी  दुनियाँ  में   इस

थेरेपी   द्वारा  इलाज  कराने  वालों  की  संख्या   दिन-प्रेतिदिन   बढ़ती  जा  रही  है  |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In सेहत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…