Home सुविचार रुठों को मानना सीखो

रुठों को मानना सीखो

0 second read
0
0
1,194

आज   तो  कभी   कोई   किसी  का  होता  नहीं  दीखता ,

मतलब   के   यारों   का  ज़माना  आ  गया  है  आज   तो ,

रुठों   को  मनाना  सीख   गए , गजब   हो   गया   समझो ,

रिस्तों  को  निभाना  जान   लिया ,इंसानियत  होगी  तेरी |

 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In सुविचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…