Home धर्म रिस्तों की पवित्रता

रिस्तों की पवित्रता

2 second read
0
0
1,132

‘रिस्तों    की   पवित्रता’  ‘ संकट   मे   है ‘  , ‘ छिलके   उतारे   जा    रहे    हैं   रात-दिन ‘ ,

‘माँ-बाप’  , ‘भाई-भाई ‘ , ‘ बहन-भाई ‘ ,  ‘सब   कुछ   सिमटता    जा   रहा   है   देश   मे ‘,

‘कलयुगी    रावण ‘ ‘ घर – घर    मे    पधारे’  , ‘ राम ‘  ‘ उड़ंन    छू    हो   गए    हैं   अब’  ,

‘तुलसी    के    राम’  , ‘सूर    के   श्याम ‘  ,  ‘स्वप्न    जैसा     दीखता    है    आजकल ‘  |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In धर्म

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…