Home ज़रा सोचो ” रामायण से लिया एक प्रेरक प्रसंग ” |

” रामायण से लिया एक प्रेरक प्रसंग ” |

3 second read
0
0
140
बहुत   सुन्दर   और   ज्ञान   वर्धक   प्रसंग  …*
*पहली   बात:   हनुमान   जी   जब   संजीवनी   बूटी   का   पर्वत   लेकर   लौटते   है   तो   भगवान   से   कहते   है :-                                  ”प्रभु   आपने   मुझे   संजीवनी   बूटी   लेने   नहीं   भेजा   था ,   बल्कि मेरा   भ्रम   दूर   करने   के   लिए   भेजा   था  ,                                  और   आज   मेरा   ये   भ्रम   टूट   गया   कि   मैं   ही   आपका   राम   नाम   का   जप   करने   वाला   सबसे   बड़ा   भक्त   हूँ’ ‘।*
*भगवान   बोले:-   वो   कैसे …?*
*हनुमान   जी   बोले :-   वास्तव   में   मुझसे   भी   बड़े   भक्त   तो   भरत   जी   है  ,   मैं   जब   संजीवनी   लेकर   लौट   रहा   था                 तब   मुझे   भरत   जी   ने   बाण   मारा   और   मैं   गिरा  ,   तो   भरत   जी   ने  ,   न   तो   संजीवनी   मंगाई  ,  न  वैध  बुलाया ।*
*कितना  भरोसा   है   उन्हें   आपके   नाम   पर  ,   उन्होंने   कहा   कि   यदि   मन  ,   वचन   और   शरीर   से   श्री   राम   जी   के             चरण   कमलों   में   मेरा   निष्कपट    प्रेम   हो  ,   यदि   रघुनाथ   जी   मुझ   पर   प्रसन्न   हो   तो   यह   वानर   थकावट   और                  पीड़ा   से   रहित   होकर   स्वस्थ   हो   जाए  ।*
*उनके   इतना   कहते   ही   मैं   उठ   बैठा  ।*
*सच   कितना   भरोसा   है   भरत   जी   को   आपके   नाम   पर  ।*
*शिक्षा  :- *
*हम   भगवान   का   नाम   तो   लेते   है   पर   भरोसा   नही   करते  ,   भरोसा   करते   भी   है   तो   अपने   पुत्रो   एवं   धन   पर ,                   कि   बुढ़ापे   में   बेटा   ही  सेवा   करेगा  ,   धन   ही   साथ   देगा  ।*
*उस   समय   हम   भूल   जाते   है   कि   जिस   भगवान   का   नाम   हम   जप   रहे   है   वे   है  ,   पर   हम   भरोसा   नहीं   करते  ।*
*बेटा   सेवा   करे   न   करे   पर   भरोसा   हम   उसी   पर   करते   है  ।*
*दूसरी   बात   प्रभु…! *
*बाण   लगते   ही   मैं   गिरा  ,   पर्वत   नहीं   गिरा  , क्योकि   पर्वत   तो   आप   उठाये   हुए   थे   और   मैं   अभिमान   कर   रहा   था               कि   मैं   उठाये   हुए   हूँ  ।*
*मेरा   दूसरा   अभिमान   भी   टूट   गया  ।*
*शिक्षा :- *
*हमारी   भी   यही   सोच   है   कि ,  अपनी   गृहस्थी   का   बोझ   को   हम   ही   उठाये   हुए   है  ।*
*जबकि   सत्य   यह   है   कि   हमारे   नहीं   रहने   पर   भी   हमारा   परिवार   चलता   ही   है  ।*
*जीवन   के   प्रति   जिस   व्यक्ति   कि   कम   से   कम   शिकायतें   है  ,   वही   इस   जगत   में   अधिक   से   अधिक   सुखी   है  ।*
*जय   श्री   सीताराम   जय   श्री   बालाजी*
*ये   राम   नाम   बहुत   ही   सरल   सरस   ,  मधुर  ,  ओर  अति   मन   भावन   है   मित्रो —– जिंदगी   के   साथ   भी   ओर                  जिंदगी   के   बाद   भी  *
*जय   श्री   राम*
Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In ज़रा सोचो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

” मन को बुरे कामों से बचाना , मंथन करना बेहद जरूरी हैं ‘ |

[1] ‘ धन , परिवार ‘ आपको  नहीं  बांधता ,’ कोई  पदार्थ ‘ नहीं  जो  …