Home कविताएं प्रेरणादायक कविता ‘यश-अपयश’, ‘हानि-लाभ ‘। ‘जीवन को जीवन देते हैं ‘ !

‘यश-अपयश’, ‘हानि-लाभ ‘। ‘जीवन को जीवन देते हैं ‘ !

1 second read
0
0
1,867

‘कल   क्या   हुआ   था ‘ ,  और  ‘ भविष्य   में   क्या   होगा ‘ ?

‘यह   सोच   कर’, ‘अपने  वर्तमान   को  नष्ट  क्यों  करते  हो ‘?

‘यश-अपयश’ , ‘हानि -लाभ’ तो , ‘जीवन  को  जीवन  देते  हैं ‘ ,

‘मिले  कार्य  को’  ‘और  मजबूती  से  करने  की  कसंम  खाओ ‘ | 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In प्रेरणादायक कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…