Home ज़रा सोचो यदि ‘ तू ‘ ‘बुजुर्गों की सेवा’ करता है , ‘किसी मंदिर’ मे ‘ मत जा

यदि ‘ तू ‘ ‘बुजुर्गों की सेवा’ करता है , ‘किसी मंदिर’ मे ‘ मत जा

0 second read
0
0
2,647

यदि ‘ तू ‘ ‘बुजुर्गों की सेवा’ करता है , ‘किसी मंदिर’ मे ‘ मत जा ‘,
‘इससे बड़ी पूजा’ ‘ कोई नहीं दूजा’ , ‘सौ सुनार की’ ‘ एक लोहार की’ |

Load More Related Articles
Load More By Tara Chand Kansal
Load More In ज़रा सोचो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धकेल देगा

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धक…