Home कविताएं उदासी की कविताएँ मैं नहीं रोया , वो समझे कोई गम नहीं मुझको —

मैं नहीं रोया , वो समझे कोई गम नहीं मुझको —

0 second read
0
0
1,159

‘दर्द  में  भी  मैं  नहीं  रोया ‘ , ‘वो  समझे ‘ ‘मुझे  कोई  गम  नहीं  हैं ‘ ,

‘अब   तो   गम  छुपा  कर’ , ‘शांत  रहने  का  ज़माना   आ   गया   ‘|

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In उदासी की कविताएँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…