Home कोट्स Love Quotes मैं और तुम

मैं और तुम

2 second read
0
0
990

{!}    ‘मैं  क्या  कहूँ ‘ ?’ कैसे  कहूँ ‘ ? ‘किससे   कहूँ ‘- ‘अपने  मन  की  बात ‘ ?

‘ मैं    ही    जालिम   प्राणी   हूँ   जिसने ‘  –‘ नींदे    चुराये    आपकी ‘ |

 

{2}   ” तुम    कोई   ‘मिसरा ‘   नहीं ” ,  ‘ पूरी  गजल ‘  हो   जाने   मन  ,

‘ गर  ख्वाब   में  भी  आ  गए ‘ ,  ” पूरी  गजल  ”  लिख   जाऊंगा  |

 

{3}   ‘ जाने-  अनजाने   मेरी   फितरत   है ‘, ‘ तेरे   घर   में   घुस   जाऊंगा ‘,

‘ जितना   भुलाओगे  मुझको  उतना’ ,’ तेरे  दिल  में  उतर  जाऊंगा ‘|

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Love Quotes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…