Home ज़रा सोचो मैं एक शब्द जैसा हूँ’

मैं एक शब्द जैसा हूँ’

1 second read
0
0
1,695

‘मैं एक शब्द जैसा हूँ’ , ‘ तू-‘ ‘उसका अर्थ’ लगती हो ,
‘जब तुम नहीं होती घर पर’, ‘सब कुछ व्यर्थ लगता है’ ,
‘जब तक शिकवे-शिकायत का डब्बा’ ‘नहीं खुलता घर में’ ,
‘लगता नहीं’ ‘ मैं घर मे हूँ ‘, ‘तू बता’ ‘ कैसे जीवूं मैं इस तरह’ |

Load More Related Articles
Load More By Tara Chand Kansal
Load More In ज़रा सोचो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धकेल देगा

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धक…