Home Uncategorized “मेरे मन के भाव ” “कुछ छंद “-

“मेरे मन के भाव ” “कुछ छंद “-

1 second read
0
0
1,023

{1}

“हर  दिन  विशेष  है’ , ‘हर  छण  विशेष  है ‘ ,’ हर  व्यक्ति  विशेष  है ‘ ,
“ढंग  से  जियो  तो  जीवन  विशेष  है”, “सकारतमकता  से  जी  लो ” |

{2}

“जो  व्यक्ति  जीवन  में उतार-चढ़ाव  आने  पर” “शिकवे-शिकायत  नहीं  करता “,
“सत्संग  और  सेवा  से  पीछे  नहीं  हटता  “,” प्रभु  पर  अटूट  विश्वास  रखता  है “,
” वह   कभी  अपने  उत्साह  और  भक्ति – भाव  पर  ” ” झुर्रियां  नहीं  आने  देता  ” ,
“चेहरे  से  नूर टपकता  है”,”गरिमा बनी रहती है”,”आंतरिक सुंदरता नहीं घटती ” |

{3}

” यदि  सही  फैसले  लिए  तो  ” ” खुद  भी  खुश  दूसरे  भी  खुश  ” ,
“अड़ियल  हो  कर  ऊंटपटांग हाँकते  रहे” ,” लुटिया  डूब  जाएगी “|

{4}

‘ क्रोध ‘ ‘ अनेकों  उत्तम  कार्यों  को ‘ ‘ आरंभ  करने  ही  नहीं  देता’ ,
“विघ्न का परिचायक है”,”मलिनता और उदासीनता घेर  लेती  है” ,
“सुख  और  संतोष  प्राप्ति  का  सरल  उपाय”,” चित्त  की  शांति  है” ,
” शांति  का  फैसला “,”खुद  के  भीतर  खुद  द्वारा  ही  हो सकता है” |

{5}

” कोई   किसी  का   बुरा  ना   करे  ” ,’  यह  उसका  धर्म  है  “,
“फिर  भी  कोई  किसी  का  बुरा करे”,” वो  उसका  कर्म  है “|

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…