Home कविता मेरा परिचय और प्रभु से प्यार

मेरा परिचय और प्रभु से प्यार

0 second read
0
0
1,207

‘मेरे किए गए’ ‘अच्छे-बुरे’ ‘कर्म’, ‘मेरा परिचय’ है ,
‘मैं’ – ‘समाज से निलम्बित’ हूँ,या ‘परिहास का मुखौटा’ हूँ |

 (2)
 ‘यदि’ ‘आप’ ‘वास्तव मे’ ‘परमात्मा’ से ‘प्यार ‘ करते हैं ,
तो ‘दूसरों की भलाई ‘ करके ‘ भूल जाना’ ‘सीखिये ‘ |
Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…