मेरा देश

0 second read
0
0
333

{ 1 }  ‘जहां    सैकड़ों    मरते    हों ‘ , ‘ करोड़ों    लूटे    जाते   हों ‘ ,  ‘ काली   रातें   कहो’  ,

‘देश     मे    गरीबी ‘ , ‘ बेरोजगारी’  ,  ‘अन्याय ‘    का    ‘ ताण्डव     होता    हो    जहां ‘ ,

‘जाहिली    नागफनी    नेतागिरा ‘ ,  ‘ कुकर्त्यों     का’   ‘ जघन्य    काम    करते    हों ‘ ,

‘वहाँ   मानव   की   ज़रूरत   नहीं ‘ ,  ‘ महामानव   के ‘  ‘प्रादुर्भाव    की   ज़रूरत   है

 

{ 2 } ‘कितने    ही    शहीद    हो    गए ‘  ,  ‘ गुमनामी    के    अँधेरों    मे   खो   गए ‘ ,

‘इन     रण      बांकुरों     ने      कभी ‘  , ‘ शहादत     का      मोल     नहीं     मांगा ‘ ,

‘देश      की     शांति      के    लिए ‘ ,   ‘ खुद    चुपचाप   बिदा      होते    चले    गए’,

‘इन     तिरंगे     के ‘  ‘ सजग     प्रहरियों     को ‘  , ‘ मेरा    कोटि –  कोटि    नमन ‘  |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In देशभक्ति कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘ज़िंदादिली को जिंदा रक्खो सब कुछ जान जाओगे ‘ !

[1] ‘मैं  हर  उल्झन  झेल  जाता  हूँ’ , ‘रो-रो  कर  जीना  नहीं  आता ̵…