Home कैरियर सलाह ‘मृत्यु’ को याद रख ‘ दुर्भाग्य से समझौता मत कर ‘ |

‘मृत्यु’ को याद रख ‘ दुर्भाग्य से समझौता मत कर ‘ |

0 second read
0
0
1,142

‘झूठी प्रतिष्ठा के जाल में फँसकर’ ‘अपना जीवन नष्ट मत करो’ ,
‘कैसी त्रासदी है यह’ ? ‘ कैसा दुर्भाग्य है ‘ ? ‘कैसा अज्ञानी है मानव ‘,
‘भौतिक इच्छाओं’ व ‘ वासनाओं ‘ को ‘ वश में करने की छमता बढ़ा ‘ ,
‘ मृत्यु ‘ को ‘ प्रतिछण याद रख ‘ ,’ दुर्भाग्य से समझोता मत कर ‘ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In सलाह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…