Home Uncategorized मुस्कराने की कला का पारखी बन !

मुस्कराने की कला का पारखी बन !

0 second read
0
0
1,228

‘तू  खुद  मुस्कराता   चल ‘, ‘दूसरों   को  मुस्कराने  की  वजह   भी   देता   चल’ ,

‘खुदा’!’तेरी  जरूरत  जान  जाएगा’,’ किसी  मंदिर -मस्जिद  की  जरूरत  नहीं ‘ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…