Home कविताएं उदासी की कविताएँ मुस्कराते देखने की तमन्ना —

मुस्कराते देखने की तमन्ना —

0 second read
0
0
1,109

‘इतनी नफ़रतों ‘ से ‘ क्यों’ ‘ नवाजते हो’ ‘ हमें ‘ ,
‘क्यों ‘ ‘इतना जहर’ , ‘जहन में’ ‘पाल ‘ रक्खा है ,
बस ‘तुम्हें ‘ ‘मुस्कराते देखने ‘ की ‘तमन्ना है मेरी’ ,
‘इतनी ख़्वाहिश’ की ‘इतनी बड़ी सज़ा’-‘क्यों,किसलिए’ ?

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In उदासी की कविताएँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…