Home शिक्षा इतिहास ‘ मियां की जूती मियां के सर ” मुहावरा कैसे ईज़ाद हुआ ” इतिहास दोहराएँ और समझें |

‘ मियां की जूती मियां के सर ” मुहावरा कैसे ईज़ाद हुआ ” इतिहास दोहराएँ और समझें |

0 second read
0
0
1,652
काशी   हिन्दू   विश्वविद्यालय   की   स्थापना   के   लिए   पेशावर   से   लेकर   कन्याकुमारी   तक   महामना   ने   इसके   लिए                    चंदा   एकत्र   किया   था  ,   जो   उस   समय   करीब   एक   करोड़   64   लाख   रुपए   हुआ   था  ।   काशी   नरेश   ने   जमीन                      दी   थी   तो   दरभंगा   नरेश   ने   25   लाख   रुपए   से   सहायता   की   थी  ।
वहीं   हैदराबाद   के   निजाम   ने   कहा   कि   इस   विवि   से   पहले   ‘ हिंदू ’   शब्द   हटाओ   फिर   दान   दूँगा  ।   महामना   ने               मना   कर   दिया   तो   निजाम   ने   कहा   कि  ” मेरी   जूती   ले   जाओ  ” ।   महामना   उसकी   जूती   ले   गए   और  हैदराबाद                 में   चारमीनार   के   पास   उसकी   नीलामी   लगा   दी  |
निजाम   की   माँ   को   जब   पता  चला   तो   वह   बंद   बग्घी   में   पहुँची   और   करीब   4   लाख   रुपए   की   बोली   लगा  कर              निजाम   का   जूता   खरीद   लिया  ।   उन्हें   लगा   कि   उनके   बेटे   की   इज्जत  बीच   शहर   में   नीलाम   हो   रही   है  ।
मियां   की   जूती  ,  मियां   के   सर’   मुहावरा   उसी   घटना   के   बाद   से   प्रचलित   हो   गया!…
चित्र में ये शामिल हो सकता है: बाहर
Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…