Home ज्ञान “मानव मात्र की सेवा ही सच्ची प्रभु की आराधना है “

“मानव मात्र की सेवा ही सच्ची प्रभु की आराधना है “

0 second read
0
0
1,088

* पीड़ित  मानवता  की  सेवा *
💐💐💐💐💐💐💐💐

 नगर   से   बाहर   एक   ‘मोची’   अपनी   एक   छोटी   सी   कुटिया   बना  कर   रहता   था  ।  पत्नी   के   देहान्त   के   बाद   वह   अकेला   रहने   पर   निराश   सा   हो   गया   था ।  एक  दिन  सपने  में  उसे  ‘ईश्वर’  ने  दर्शन  देते  हुए  कहा –

“पुत्र   जीवन का   सबसे   बड़ा  उद्देश्य   है   स्वयं   का   परिष्कार   व   पीड़ित   मानवता   की   सेवा  ।  तुम   अकेले   कहाँ   हो  ।   तुम   पीड़ित   मानवता   की सेवा   करने   लगो  ,   फिर   तुम्हें   यह   संसार   अपना   लगने   लगेगा ” ।   प्रभु   ने   आगे   उससे   कहा   कि 

” पुत्र ,   मैं   तुम्हारे   पास   आऊँगा   और  दर्शन भी   दूँगा  ,   बस   मुझे   पहचान   लेना  “।  इतना   कह   कर   प्रभु   अन्तर्ध्यान   हो   गए  ।

प्रसन्न   मोची   सुबह   होते   ही   अपने   काम   में   लग   गया  ।  कुछ   देर   बाद   दरबाजे   पर   एक   ‘बूढ़ा  भिखारी’  आया ।   मोची   ने   उसे   प्रेमपूर्वक भीतर   बुलाया   और   भरपेट   भोजन   कराया  ।   जाते   वक्त   वह   उस   बूढ़े   मोची   से   बोला  –   तुमने   प्रेमपूर्वक   भोजन   करा  कर   मेरी   देह  और आत्मा   को   तृप्त   किया   है  ।   ईश्वर   तुम्हारा   भला   करे  ।   यह   कह   कर   वह   बूढ़ा   चला   गया   और   मोची   पुन:   अपने   काम   में   लग   गया । 

तभी   उसने   बाहर   देखा   कि   ‘एक   महिला’   भीषण   ठंड़   में   अपने   बच्चे   को   सीने   से   चिपकाए   आश्रय   पाने   की   कोशिस   कर   रही   थी  । मोची उसे   कुटिया   के   भीतर   ले   आया   और   गर्म   पेय   पिलाया  ,  जिससे   उसे   कुछ   गर्माहट   मिली  । 

वह   स्त्री   मोची   से   बोली  –

“मेरे   पति   मर   चुके   हैं  ।  घर   में   जो   कुछ   था   वह   पेट   की   खातिर   बेच   ड़ाला  ।   कल   मैंने   अपनी   आखिरी   शॉल   भी   गिरवी   रख   दी  ।  यह सुन  कर   मोची   अन्दर   से   एक   कम्बल   लाया   और   महिला   को   देते   हुए   बोला  –   इससे   अपने   बेटे   को   ठंड़   से   बचाना   और   हाँ   गिरवी   रखी शॉल   को   उठाने   के   लिए   कुछ   पैसे   भी   रख  लो  ।   उस   महिला   की   आँखों   में   कृतज्ञता   के   आँसू   टपक   पड़े  ।  वह   दुआएँ   देती   हुई   वहाँ   से रवाना   हो   गई  ।

रात   होने   पर   मोची   जब   सोया   तो   फिर   प्रभु   उसके   सपने   में   आए  ।   मोची   ने   उनसे   कहा  –

प्रभु!  आपने   तो   कहा   था   कि   आप   मुझे  दर्शन   देने   आएँगे  ,   फिर   आप   आए   क्यों   नहीं ” ?

   प्रभु   मुस्कराए   और   बोले  – 

‘वत्स !   कल   मैं   दो   बार   तुम्हारे   पास   आया  ।   पहली   बार   बूढ़े   के   रूप   में   और   दूसरी   बार   दुखियारी   महिला   के   रूप   में  ।   भले   ही  तुमने मुझे   पहचाना   नहीं  ,   पर   तुमने   मेरा   ध्यान   वैसे   ही   रखा  ,  जैसे   मुझे   पहचानने   पर   रखते  ।   मैं   तुम्हारी   सेवा   से   अत्यन्त   ही   प्रसन्न  हूँ । तुम्हारा   सदैव   भला   होगा  “।   यह   कह   कर   प्रभु  अन्तर्ध्यान   हो   गए  । 

 ‘वास्तव   में   प्राणी   मात्र   की   सेवा   ही   सच्ची   ईश्वर   की   आराधना  है ’।

🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉

जय गुरुवर जय महाकाल
हम बदलेंगे , युग बदलेगा

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In ज्ञान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…