Home जीवन शैली ‘माँ-बाप का दिल न दुखाएं ‘–“एक मर्मस्पर्शी बोध-कथा ‘|

‘माँ-बाप का दिल न दुखाएं ‘–“एक मर्मस्पर्शी बोध-कथा ‘|

1 second read
0
0
1,675

न्यायालय   में   एक   मुकद्दमा   आया   ,  जिसने   सभी   को   झकझोर   दिया   |  अदालतों   में   प्रॉपर्टी   विवाद   व   अन्य   पारिवारिक   विवाद   के              केस     आते   ही   रहते   हैं  | 
मगर   ये   मामला   बहुत   ही   अलग   किस्म   का   था..
एक   70   साल   के   बूढ़े   व्यक्ति   ने  ,  अपने   80   साल   के   बूढ़े   भाई   पर   मुकद्दमा   किया   था  |

मुकद्दमे    कुछ   यूं   था   कि   ”  मेरा   80  साल   का   बड़ा   भाई   ,  अब   बूढ़ा   हो   चला   है   ,  इसलिए   वह   खुद   अपना   ख्याल   भी   ठीक   से   नहीं   रख   सकता   |  मगर   मेरे   मना   करने   पर   भी   वह   हमारी   110   साल   की   मां   की   देखभाल   कर   रहा   है   |
मैं   अभी   ठीक   हूं  ,   इसलिए   अब   मुझे   मां   की   सेवा   करने   का   मौका   दिया   जाय   और   मां   को   मुझे   सौंप   दिया   जाय  “।

न्यायाधीश   महोदय   का   दिमाग   घूम   गया   और   मुक़दमा   भी   चर्चा   में   आ   गया  |   न्यायाधीश   महोदय   ने   दोनों   भाइयों   को   समझाने   की कोशिश   की   कि   आप   लोग   15 – 15  दिन   रख   लो  |


मगर   कोई   टस  से  मस  नहीं   हुआ  ,  बड़े  भाई   का   कहना   था   कि   मैं   अपने   स्वर्ग   को   खुद   से   दूर   क्यों   होने   दूँ   |  अगर   मां   कह   दे   कि  उसको  मेरे   पास   कोई   परेशानी   है   या   मैं   उसकी   देखभाल   ठीक   से   नहीं   करता  ,  तो   अवश्य   छोटे   भाई   को   दे   दो  ।


छोटा   भाई   कहता   कि   पिछले   40  साल   से   अकेले   ये   सेवा   किये   जा   रहा   है  ,   आखिर   मैं   अपना   कर्तव्य   कब   पूरा   करूँगा  ?
परेशान  न्यायाधीश   महोदय   ने   सभी   प्रयास   कर   लिये   ,  मगर   कोई   हल   नहीं   निकला  |


आखिर   उन्होंने   मां   की   राय   जानने   के   लिए   उसको   बुलवाया   और   पूंछा   कि  ” वह   किसके   साथ   रहना   चाहती   है ” ?


मां   कुल   30  किलो   की   बेहद   कमजोर   सी   औरत   थी   और   बड़ी   मुश्किल   से   व्हील   चेयर   पर   आई   थी  |  उसने   दुखी   दिल   से   कहा                कि ”  मेरे   लिए   दोनों   संतान   बराबर   हैं  |  मैं   किसी   एक   के   पक्ष   में   फैसला   सुना  कर   दूसरे   का   दिल   नहीं   दुखा   सकती  |
आप              न्यायाधीश   हैं   ,  निर्णय   करना   आपका   काम   है   |  जो   आपका   निर्णय   होगा   मैं   उसको   ही   मान   लूंगी ” ।


आखिर  न्यायाधीश   महोदय   ने   भारी   मन   से   निर्णय   दिया   कि

”  न्यायालय  छोटे    भाई   की   भावनाओं   से   सहमत  है   कि   बड़ा    भाई   वाकई   में   बूढ़ा   और   कमजोर   है  |  ऐसे   में   माँ   कि   सेवा                       कि   ज़िम्मेदारी   छोटे    भाई   को   दी   जाती   है  “|

फैसला   सुन  कर   बड़ा   भाई   जोर  जोर   से   रोने   लगा   कि   इस   बुढापे   ने   मेरे   स्वर्ग   को   मुझसे   छीन   लिया   |  अदालत   में   मौजूद         न्यायाधीश   समेत   सभी   रोने   लगे  ।


कहने   का   तात्पर्य   यह   है   कि   अगर   भाई   बहनों   में   वाद   विवाद   हो   ,  तो   इस   स्तर   का   हो  |
ये   क्या   बात   है   कि   ‘ माँ  तेरी  है ‘   की   लड़ाई   हो  ,  और   पता   चले   कि   माता- पिता   ओल्ड   एज   होम   में   रह   रहे   हैं   |                                      यह   पाप   है  ।


हमें   इस   मुकदमे   से   ये   सबक   लेना   ही   चाहिए   कि   माता -पिता    का   दिल   कभी  न    दुखाएं  ।

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In जीवन शैली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…