Home धर्म माँ चौरासी घंटेवाली भगवती , आ जाओ —

माँ चौरासी घंटेवाली भगवती , आ जाओ —

0 second read
0
0
1,134

*तुम्हारा स्वागत है माँ तुम आओ*
सिंह की सवार बनकर
रंगों की फुहार बनकर
पुष्पों की बहार बनकर
सुहागन का श्रंगार बनकर
*तुम्हारा स्वागत है माँ तुम आओ*


खुशियाँ अपार बनकर
रिश्तों में प्यार बनकर
बच्चों का दुलार बनकर
समाज में संस्कार बनकर
*तुम्हारा स्वागत है माँ तुम आओ*


रसोई में प्रसाद बनकर
व्यापार में लाभ बनकर
घर में आशीर्वाद बनकर
मुँह मांगी मुराद बनकर
*तुम्हारा स्वागत है माँ तुम आओ*


संसार में उजाला बनकर
अमृत रस का प्याला बनकर
पारिजात की माला बनकर
भूखों का निवाला बनकर
*तुम्हारा स्वागत है माँ तुम आओ*


शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी बनकर
चंद्रघंटा, कूष्माण्डा बनकर
स्कंदमाता, कात्यायनी बनकर
कालरात्रि, महागौरी बनकर
माता सिद्धिदात्री बनकर
*तुम्हारा स्वागत है माँ तुम आओ*


तुम्हारे आने से नव-निधियां
स्वयं ही चली आएंगी
तुम्हारी दास बनकर
*तुम्हारा स्वागत है माँ तुम आओ*
???????
*सभी पर माँ की कृपा खूब बरसे.*

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In धर्म

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…