Home कविताएं ‘महिलाओं का अदम्य साहस , उत्तम सोच और कार्य-प्रणाली अतुलनीय है ” !

‘महिलाओं का अदम्य साहस , उत्तम सोच और कार्य-प्रणाली अतुलनीय है ” !

2 second read
0
0
938

[1]

“महिलाएं   साबित कर  रही  हैं ‘ कि ‘हौसले बुलंद  हों  तो  कुछ भी  कर सकते  हैं “,
“व्यवसाय’,’राजनीति’,’खेल’,’अन्तरिक्ष’,”हर क्षेत्र में कीर्तिमान स्थापित किए हैं” ,
“अपने अद्भुत साहस’,’अथक प्रयास से” विश्व पटल पर अपनी पहचान  बनाई  है” ,
“मानवीय संवेदना’,’करुणा’ व ‘वात्सल्य ‘ के ‘ भावों से परिपूर्ण होती  है नारियाँ ” |

[2]

“भारत हुनर की खान है”,”महिलाएं नगीना बन कर बेमिशाल साबित हो रही हैं “,
‘कल्पना’, ‘उषा”मैरी कांम”नेहवाल”इन्दिरा”सरोजिनी”चंदा कोचर’, ‘शिखा शर्मा’ ,
‘राखी कपूर’,’ किरण मजूमदार’ ,’निसबा गोदरेज’, ‘जयंती चौहान’, ‘ विद्या बालन’ ,
‘फरहा खान’,’एकता कपूर’,’अरुंधति राय’,’निरूपमा राव’ ‘जैसी हुनरबाज़ है देश में ‘,
‘सभी काबिल और हुनरबाज़ महिलाओं को’ ‘ देशवासियों का ससम्मान सलाम है ‘ ‘
‘और अनेकों निपुण महिलाएं’ ‘देश का इतिहास बदलने का हौसला सँजोये बैठी हैं ‘ |

[3]

“महिलाओं ने  कौशल दिखा कर  साबित कर  दिया ” कि ” पुरुषों से कमतर  नहीं “,
“समाज के सभी तबकों में  महिलाएं”” बेहतर दिशा में  प्रयासरत दिखाई  देती  है” ,
“नारी जीवन दायिनी”,”नारी है वरदान “,” नारी है सिंघवाहिनी “,” नारी है तूफान “,
” सभी महिलाओं ने” ‘मेहनत’ व ‘लगन’ से साबित कर दिया’,”पुरुषों से कम नहीं ” |

[4]

‘संसार में इतनी बुराई ,लालच,संकुचित सोच और हिंसक प्रवत्तियाँ हैं’,
‘हम  झूठ  की  तरफ ,बनावट , गिरावट  की  तरफ बढ़ते जा  रहे  हैं ‘,
‘इनका  असर  नेक बंदों  पर  पड़ता  है , ग्रहण  की तरह डूब  जाते  हैं ‘,
‘ह्रदय  इतना विशाल बनाएँ कि  सारे जहां का  दर्द समा जाए  उसमें ‘|

[5]

‘हिम्मती बनने का तात्पर्य यह नहीं, 
‘आप किसी से डरे ही नहीं ‘,
‘हिम्मत का अर्थ है आप डर कर ,
काम करना बंद न कर दें ‘|

[6]

‘समय’-आलस्य ,प्रसाद ,गपशप , तुच्छ  आनंद  की  भेंट  चढ़  गया ‘,
‘सारा पुरुषार्थ व्यर्थ,प्रेरणा हास्यप्रद’ ,’ठूंठ’ बन कर रह जाओगे जनाब ‘|

[7]

‘आज कहते हो वक्त तुम्हारा है’ ,
‘कभी हमारा भी आएगा ‘,
‘कल कहोगे – ‘क्या वक्त था वो भी ‘,
‘अब ढूँढे नहीं मिलता ‘|

[8]

‘सुकर्मी’ कभी अँधेरों से नहीं डरता’ ,’बढ़ता चला जाता है ‘,
‘जाँबाज -हर रास्ते की रुकावट को काट कर ही रुकता है ‘|

 

 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In कविताएं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…