Home कविताएं धार्मिक कविताएँ महक ही महक हो’ ‘ चारों तरफ संसार में

महक ही महक हो’ ‘ चारों तरफ संसार में

0 second read
0
0
1,206

‘महक ही महक हो’ ‘ चारों तरफ संसार में ‘
‘हम जहां भी रहें’ ,’ मिठास ही मिठास हो ‘,
‘हर इंसान’- ‘प्रेम की गंगा बहता चले ‘,
‘सुख का बिरंवा ‘ ‘सींचता चले जमाने में ‘

Load More Related Articles
Load More By Tara Chand Kansal
Load More In धार्मिक कविताएँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धकेल देगा

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धक…