Home कोट्स Motivational Quotes ‘मन में राम बगल में छुरी’ रखते हैं,आदर्शों पर चलने का प्रयास नहीं | गजब | जरा सोचें |

‘मन में राम बगल में छुरी’ रखते हैं,आदर्शों पर चलने का प्रयास नहीं | गजब | जरा सोचें |

3 second read
0
0
1,101

[1]

जरा सोचो
‘मुंह  में  राम  बगल  में  छुरी’ गजब  की  ‘शिक्षा’  है  आपकी,
‘आदर्शों’ में ‘आस्था’ है परंतु,उन पर’ चलने की कोशिश नहीं !

[2]

जरा सोचो
तुम ‘जिंदा’ हो तो ‘गाली’ और ‘शाबाशी’ दोनों मिलती जाएंगी,
समयानुसार ‘एहसास’ बदल जाते हैं, इसी का नाम ‘जीवन’ है !

[3]

जरा सोचो
‘हम’- ‘मतलब’ से  याद  करने  वाले ‘रिश्तेदार’ नहीं  हैं,
‘स्नेह की बरसात’ करते हैं, मिलकर ‘तिलमिलाते’ नहीं !

[4]

जरा सोचो
सबके  साथ  ‘ हंसो ‘  पर  किसी  पर  ‘ मत  हंसो ‘,
‘सब’ दिल  के राजा  हैं, सबका ‘सम्मान’ होना चाहिए !

[5]

जरा सोचो
किसी ‘बहस’ का ‘परिणाम’ ‘सही फैसले’ में बदल जाए,
तभी ‘सभ्य समाज’ का  निर्माण  संभव  है, पुनः सोचे !

[6]

जरा सोचो
कुछ  अच्छा  लगना ,किसी  को  चाहना  और  पाना, ‘सोच  की  सोच’  है ,
मजा तो जब होता, किसी का ‘साथ निभाने की कला’ भी ‘सीख’ ली होती !
 
[7]
 
 जरा सोचो
किसी  को ‘गुमराह’ करना  है तो ‘विकल्प  ही  विकल्प’  हैं,
‘सुकर्म’ करने  का ‘संकल्प’ कर  लेता, ‘कल्याण’ हो  जाता !
 
[8]
मेरी सोच
‘अच्छे  मित्र ‘ – एक  दूसरे  का  ध्यान  रखते  हैं ,
‘नजदीकी  मित्र’- एक दूसरे को  भली भांति  समझते  हैं,
‘सच्चे  मित्र’- एक  दूसरे से जुड़े  रहते  हैं , वह भी   बिना कुछ  कहे-
बिना  किसी  समय  और  दूरियों  की  सीमाओं  से  आगे  |
[9]
 जरा सोचो
‘सोच’ में ‘ताकत और चमक’ होनी चाहिए, ‘छोटा-बड़ा’ कुछ नहीं होता,
‘बड़ी सोच’  रख कर ‘ मन  के  दीप ‘ जलाएं ,  सदा  ‘ मुस्कुरायें ‘ !
[10]
जरा सोचो
आज ‘मुसीबत’ नजर  आती  है , परंतु  ‘कल का सच’ अभी देखा नहीं ,
‘प्रयास दर प्रयास’ ही वह ‘मुकाम’ है , ‘मुकम्मल रोशनी’ से नवाजेगा !
Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Motivational Quotes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…