Home कविताएं प्रेरणादायक कविता ‘मन की आवाज़ सुन” , “उसका गुलाम मत बन” |

‘मन की आवाज़ सुन” , “उसका गुलाम मत बन” |

2 second read
0
0
1,125

“जिस  इंसान   में  ज्ञान  और  बुद्धि  है”,”हमेशा  आत्मा   की  आवाज़   सुनता  है” ,

“जिस   इंसान   की   बुद्धि”-“मन   की  गुलाम   है “,” वहीं  शैतान  की  हुकूमत  है” ,

“तू “, ” नेक   काम   करता   चल” ,  “गुमराह   मत   हो”, “सुखों  का   भागी  बन ” ,

“जहां   शैतान   की  हुकूमत   है”-” बेअंत  दुख  मिलता  है “,” दर-दर  भटकता  है ” | 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In प्रेरणादायक कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…