Home कविताएं देशभक्ति कविता ” भारत माता की जय नहीं कहते “- क्यों ?

” भारत माता की जय नहीं कहते “- क्यों ?

1 second read
0
0
1,134

“हम  गीत   गाते   हैं ” , ” जननी   और   जन्म-भूमि   स्वर्ग   से  भी   श्रेष्ठ   है ” ,

“आज   देश   में   जननी    का   अपमान   होता  है ” ,” खूब   विरोध   होता  है ” ,

“राष्ट्र  की   अस्मिता  पर  चोट   मारते   हैं “, “भारत-माता  की  जय  नहीं  कहते” , 

“अनेकों   संप्रदायों    से    संचालक ” ,     ‘शंकराचार्य  ‘  “खामोश    बने   बैठे   हैं     ‘ ,

“उनके   आक्रोश    में    क्या    है ” ? ‘ ढूंढो ‘ और  ‘उसका  समाधान  दो   हमको,

“धर्म   और   देश   की   व्याख्या  करने  वालों “, ‘अब  कुछ   तो   करो “, “जागो ” | 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In देशभक्ति कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…