Home ज्ञान भारतीय मुद्रा का इतिहास

भारतीय मुद्रा का इतिहास

47 second read
0
1
7,510

भारतीय  मुद्रा {रुपया  र\} से जुड़े  31  गजब  रोचक तत्व :-

1, भारत  में करन्सी  का इतिहास 2500  साल  पुराना  है | इसकी  शुरुआत एक राज़ा  द्वारा  की  गयी  थी |

2 अगर  आपके  पास  आधे  से ज्यादा (51 %) फटा हुआ नोट  है तो भी आप  बैंक  में जाकर  उसे  बदल सकते  हैं | यह  कानून  है |

3 बात सन 1917 की है जब 1  रुपया  13 S\ डालर  के  बराबर  हुआ  करता  था | फिर 1947 में भारत  आज़ाद  हुआ  तब 1 रुपया = 1 डालर  कर  दिया  गया | फिर धीरे-धीरे भारत पर कर्ज़  बढ़ने लगा  तो इन्दिरा गांधी  ने कर्ज़ चुकाने  के लिए रुपये  की कीमत कम करने का फैसला  लिया उसके बाद सेआज तक रुपये की कीमत लगातार घटती जा रही है |

4 अगर अंग्रेजों का बस चलता तो आज भारत की करन्सी  पाउंड होती |लेकिन रुपये की मजबूती के कारण ऐसा  सम्भव  नहीं हुआ |

5 इस समय भारत मे  400 करोड़  के नकली नोट  हैं |

6 सुरक्षा कारणों से आपको नोट के सीरियल  नंबर  I – J – O-  X – Y – Z  अक्षर  नहीं मिलेंगे  |

7 हर भारतीय नोट पर किसी न किसी चीज की फोटो छिपी होती है  जैसे  20 रुपए के नोट पर अंडमान  आइलैण्ड  की तस्वीर है | वहीं , 10  रुपए  के नोट पर हाथी , गैंडा  और शेर  छिपा हुआ है , जबकि 100 रुपये के नोट पर पहाड़ और बादल  की तस्वीर  है | इसके  अलावा  500 रुपये  के नोट पर आज़ादी  के आंदोलन  से जुड़ी 11 मूर्ति की तस्वीर छिपी  है |

८  भारतीय नोट पर उसकी  कीमत  १५ भाषाओं  में  लिखी जाती है |

९  १ रुपये में  १00 पैसे होंगे , यह बात सन 1957 में  लागू  की गयी थी | पहले इसे 16  आने  में  बांटा  जाता  था |

१०  R B I  ने  जनवरी  1938 में  पहली बार 5  रुपये की पेपर करन्सी  छापी  थी , जिस पर किंग-जार्ज -6 का चित्र था | इसी साल  10000 रुपये का नोट  भी छापा  था , लेकिन  इसे 1978 में  पूरी तरह बंद कर दिया  गया था |

11 आज़ादी  के बाद पाकिस्तान  ने तब तक भारतीय मुद्रा का प्रयोग किया जब तक उन्हें काम  चलाने लायक नोट न छाप लिए |

12  भारतीय  नोट किसी  आम कागज़ के नहीं , बल्कि कांटन  के बने होते हैं | ये इतने मजबूत होते हैं कि  आप नए नोट के  दोनों  सिरों  को पकड़ कर उसे फाड़  नहीं सकते |

13  एक समय  ऐसा  था जब बांग्ला-देश  ब्लेड बनाने  के लिए भारत से 5 रुपये के सिक्के  मंगाया  करता था | 5  रुपये के सिक्के  से 6 ब्लेड  बनाते थे | एक ब्लेड  की  कीमत 2 रुपये  होती थी  तो ब्लेड  बनाने  वाले  को  अच्छा  फायदा  होता था  |इसे  देख कर  भारत  सरकार  ने  सिक्का  बनाने  वाला  मेटल  ही  बदल  दिया |

14  आज़ादी के बाद सिक्के  तांबे के बनते  थे | उसके बाद 1964 में  ऐल्यूमिनियम  के और 1988  में  स्टैनलेस  स्टील  के  बनने  शुरू  हुए  |

15  भारतीय नोट पर महात्मा गांधी कि जो फोटो छपती  थी वह तब  खींची  गयी थी जब गांधी जी , तत्कालीन  बर्मा  और भारत  में  ब्रिटिश स्क्रेटरी  के रूप में  कार्यरत  फ़्रेडरिक  पेथिक  लारेंस  के साथ  कॉलकाता  स्थित  वायसराय हाउस  में  मुलाकात  करने गए थे | वह  फोटो 1996  में नोटों पर  छपनी  शुरू  हुई  थी | इससे  पहले महात्मा  गांधी  कि जगह  अशोक स्तम्भ छापा  जाता था |

16  भारत के 500  और 1000 रुपये के  नोट  नेपाल  देश  में  नहीं चलते |

17  500  रुपये का पहला नोट सन  1987  में और 1000  रुपये  का  पहला नोट सन 2000 में  बनाया  गया  था  |

18  भारत में  75  तथा  100 और 1000  रुपये के सिक्के  भी  छप  चुके हैं  |

19  1 रुपये का नोट भारत सरकार द्वारा  और 2  से 1000 रुपये  के नोट  R B I  द्वारा  जारी किए जाते हैं  |

20  एक  समय पर भ्रष्टाचार  से लड़ने  के  लिए  0  रुपये का नोट  5 th पिलर  नाम की  गैर-सरकारी  संस्था  द्वारा जारी  किए गए थे |

21  10 रुपये  के  सिक्के  को बनाने  में  6,10  रुपया  की लागत  आती है |

22  नोटों पर सीरियल  नम्बर  इसलिए  डाला जाता  है  ताकि  R B I  को पता  चलता  रहे  कि  इस  समय  मार्केट  में  कितनी  करन्सी  है  |

23  रुपया  भारत के अलावा  इन्डोनेशिया , मारिशस  , नेपाल , पाकिस्तान  और  श्री-लंका  की

भी  करन्सी  है  |

24  R B I  के अनुसार  भारत  हर साल  2000  करोड़  करन्सी  नोट  छापता  है  |

25  कम्प्यूटर  पर  R  टाइप  करने  के लिए ctrl + शिफ्ट + S   के बटन को एक साथ दबाएँ |

26  R के इस चिन्ह   को 2010 में  उदय कुमार  ने बनाया  था | इसके  लिए  उनको 2,5  लाख  रुपये  का इनाम  भी  मिला  था  |

27  क्या  R B I  जितनी  मर्ज़ी  चाहे  उतनी  कीमत  के नोट  छाप  सकती  है  ?  ऐसा  नहीं  है , कि  R B I  जितनी  मर्ज़ी  चाहे  उतनी  कीमत  के नोट छाप  सकती  है  \ अगर इससे  ज्यादा  के  नोट  छापने  हैं  तो उसको  RESERVE   BANK   OF  INDIA  ACT , 1934  में  बदलाव  कराना  होगा |

28  जब  हमारे पास  नोट  छापने  की मशीन  है  तो  हम  अनगिनत  नोट  क्यों  नहीं  छाप  सकते  ?

हम कितने  नोट  छाप  सकते  हैं  इसका  निर्धारण  मुद्रा-स्फीति , जी   डी  पी  ग्रोथ , बैंक  नोट्स  के  रिप्लेस्मेंट  और  रिज़र्व  बैंक  के स्टोक ( Stock )  के  आधार  पर  ही  किया  जाता  है |

29  हर  सिक्के  पर सन  के नीचे  एक  खास  निशान  बना  होता है  आप  उस  निशान  को  देख  कर  पता  लगा  सकते  हो  कि  यह  सिक्का  कहाँ  बना  है | –

[ a  ]  मुम्बई — हीरा (  )

[ b  )   नोएडा —डाट ( ,  )

( c  )   हैदराबाद –सितारा (    )

( d  )   कोलकाता –कोई निशान  नहीं

30  जानिए  एक  नोट  कितने  रुपए  में छपता  है :_

( a  )  1  R  = 1.14  R

( b  ) 10  R  = 0,66  R

( C   ) 20 R   = 0,94  R

(D  )  50  R    = 1.63  R

( E  ) 100 R    = 1.20  R

( F  )  500 R   = 2.45  R

( G  ) 1000  R   = 2.67 R

31  रुपया  डालर  के  मुक़ाबले  बेशक  कमजोर  है  लेकिन  फिर  भी  कुछ  ऐसे  देश  हैं  जिनकी  करन्सी  के  आगे  रुपया  काफी  बड़ा  है | आप  कम  रुपयों  में  इन  देशों  में  घूमने  का  लुफ्त  उठा  सकते  हैं  :-

नेपाल —  १ रुपया = 1,60 नेपाली रुपया

आइसलैंड –1 रुपया  = 1.94  क्रोन
श्री लंका – १  रुपया = 2.10  श्री लंकाई रुपया

हंगरी — १  रुपया  = 4 ,27 फोरिण्ट

पराग्वे — 1 रुपया   = 84.73 गुआरनी

इन्डोनेशिया – 1 रुपया = 222.58 इन्डोनेशियन रुपया

बेलारूस — 1 रुपया  =  217.97  बेलारूसी  रूबल

वियतनाम – 1 रुपया  = 340,39   वियतनामी  डोंग

32  भारतीय  का  संक्षिप्त  विवरण —

फूटी  कौड़ी  से  कौड़ी

कौड़ी  से  ढेला

ढेला  से  पाई

पाई  से  पैसा

पैसे  से  रुपया

( 256 दमड़ी =  192  पाई = 128 ढेला  = 64 पैसा (पुराना) = 16  आने  = 1 रुपया  )

 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In ज्ञान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…