Home Uncategorized ‘ भरोसा ‘ है तो ‘पहाड़ों में भी रास्ते ‘ बन जाएंगे -‘ प्रयास ‘ करते रहने चाहिए |

‘ भरोसा ‘ है तो ‘पहाड़ों में भी रास्ते ‘ बन जाएंगे -‘ प्रयास ‘ करते रहने चाहिए |

5 min read
0
0
553

[1]

जरा सोचो
‘प्यार  के  दीवाने ‘  थे  ‘ दीवाने ‘  हैं ‘ दीवाने ‘  ही  रहेंगे,
कितना भी ‘उलट पलट’ करो, ‘दीवानगी’ घट नहीं सकती !

[2]

जरा सोचो
यौवन  में ‘हरियाली’ अधेड  उम्र  में ‘पीलापन’ बुढ़ापे  में ‘झुर्रियां’,
‘पत्ते  सरीखे ‘ जीवन  का  बस  इतना  ही  ‘फ़साना’  है !

[3]

जरा सोचो
‘बदला’ लेने की ‘प्रवृत्ति’ प्रबल, ‘बदलाव’ लाने का प्रयास नहीं,
‘प्यार  भरा  रिश्ता’  खत्म  हो  जाएगा , ‘ होश’  में  आओ !

[4]

 जरा सोचो
‘सर्वगुण  संपन्न’  तो  कोई  नहीं  और  ‘जीवन’  जीना  भी  है,
‘ कमियों’ को ‘नकारते’ चलो, ‘सकारात्मक’  बनकर  ही  जियो !
[5]
‘भरोसा  हो  तो  पहाड़ों  में  भी  रास्ते   बन  जाएंगे ,
 ‘संदेही  रहे  तो  उलझनों ‘ के पहाड़  ही बन पाएंगे  |
[6]
‘तुम  अच्छे  प्राणी  हो  परंतु  ‘सर्वोत्तम’  भी  बन  सकते  हो ,
कुंठित  मन  को  पूरा  रगड़ो ,जब तक जान  में  जान हो तेरे ” |
[7]
 ‘हाल  पुछते  ही  कहते  हो ,’जिंदा  हैं ‘, क्या  विकास  इसी  का  नाम  है ,
 यदि नहीं  तो  कहो ‘ज़िंदादिल ‘ इंसान  हूँ , रो-रो  कर  जीना  नहीं आता |
 [8]
‘सदा  पाने  का  प्रयास  है  ,  देने  की  कोशिश  नहीं ,
‘बरकत’ और ‘सम्मान’  दोनों  पाओगे ,अगर  देते  रहे ‘ |
[9]
‘कान  भरने  वाले  अनेक  पर  काम  करने  वाले  नहीं  मिलते ,
‘क्या  यूं  ही  देश का  ‘इतिहास’ लिखा  जाएगा , हम  धन्य  हैं ‘ |
[10]
‘ कठिनाइयों ‘  का  आना  ही  ‘मंजिल’  की  ओर  बढ्ने  का  इशारा  है ,
‘डर’  गए  तो ‘ मर ‘ गए , ‘आगे’  बढ़े  तो ‘ जीत ‘ निश्चित  समझ ‘|

 

 

 

2 दिसंबर को 11:56 पूर्वाह्न बजे  · 

दोस्त के साथ साझा किया गया

कस्टम

 

 

जरा सोचोजो ‘मिला’ है उसकी ‘कदर’ नहीं, और की ‘चाहत’ कम नहीं होती,’प्यार’ का मौसम खत्म, जीवन ‘गडमगढ़’ ही जी पाओगे !

 

 

 

4Madan Lal Narula, Adarsh Bhushan और 2 अन्य लोग

 

1 टिप्पणी
लाइक करें
कमेंट करें
शेयर करें

 

कमेंट

 

कमेंट लिखें…




 

 

 

स्वागतं
लाइक करें
कमेंट करें
शेयर करें

 

कमेंट

 

कमेंट लिखें…




 

 

 

 

1 दिसंबर को 2:49 शाम बजे  · 

दोस्त के साथ साझा किया गया

कस्टम

 

 

उत्पाद देखने के लिए क्लिक करें

 

 

 

 

0:01 / 1:00

 

 

हाइड्रोपोनिक्स सतत खाद्य उत्पादन का भविष्य है । कम पानी, अधिक उपज, कम कीटनाशक और उर्वरक । @davidattenborough जानता है कि क्या चल रहा है । #urbangreenfarms
.
.

….

और देखें

 

 

  ·

मूल देखें

  ·

इस अनुवाद को रेट करें

 

 

 

 

1सुबोध सिंह चौहान

 

लाइक करें
कमेंट करें
शेयर करें

 

कमेंट

 

कमेंट लिखें…




 

 

 

 

1 दिसंबर को 1:42 शाम बजे  · 

दोस्त के साथ साझा किया गया

कस्टम

 

 

 

 

 

 

0:04 / 2:52

 

 

 

6Deepti Gupta, Manju Gupta और 4 अन्य लोग

 

लाइक करें
कमेंट करें
शेयर करें

 

कमेंट

 

कमेंट लिखें…




 

 

 

 

29 नवंबर को 1:28 शाम बजे  · 

दोस्त के साथ साझा किया गया

कस्टम

 

 

 

चित्र में ये शामिल हो सकता है: एक या अधिक लोग, वह टेक्स्ट जिसमें 'लोग कहते है अपनों के सामने थोड़ा झुक जाना चाहिए लेकिन में उन्हें कैसे समझाऊँ अपना तो वो है जो हमे किसी के सामने झुकने ही ना दे पवित्र रिश्ता' लिखा है

 

 

 

 

 

13Rama Bansal, नारायण सिंह और 11 अन्य लोग

 

1 टिप्पणी
लाइक करें
कमेंट करें
शेयर करें

 

कमेंट

 

  •  

    पीठ पर जो लगें तीर तब इतनी तकलीफ नहीं हुई,तकलीफ हुई जब देखी कमान अपनों के हाथ में

     

    •  

      लाइक करें

       

     

  •  · 
    जवाब दें
  •  · 2 सप्ताह
कमेंट लिखें…




 

 

 

 

29 नवंबर को 1:21 शाम बजे  · 

दोस्त के साथ साझा किया गया

कस्टम

 

 

 

चित्र में ये शामिल हो सकता है: वह टेक्स्ट जिसमें 'समझ ना आया ऐ जिंदगी तेरा ये फलसफा, एक तरफ कहती है सबर का फल मीठा होता है और दूसरी #hradavmaruchequiarati heguiarati तरफ कहती है वक़्त किसी का इंतजार नही करता.' लिखा है

 

 

 

 

 

14Rama Bansal, नारायण सिंह और 12 अन्य लोग

 

3 कमेंट
लाइक करें
कमेंट करें
शेयर करें

 

कमेंट

 

और 2 कमेंट देखें
कमेंट लिखें…




 

 

 

 

29 नवंबर को 11:35 पूर्वाह्न बजे  · 

दोस्त के साथ साझा किया गया

कस्टम

 

 

जरा सोचो’सर्वगुण संपन्न’ तो कोई नहीं और ‘जीवन’ जीना भी है,’ कमियों’ को ‘नकारते’ चलो, ‘सकारात्मक’ बनकर ही जियो !

 

 

 

 

 

 

 

 

 

2 दिसंबर को 11:56 पूर्वाह्न बजे  · 

दोस्त के साथ साझा किया गया

कस्टम

 

 

जरा सोचोजो ‘मिला’ है उसकी ‘कदर’ नहीं, और की ‘चाहत’ कम नहीं होती,’प्यार’ का मौसम खत्म, जीवन ‘गडमगढ़’ ही जी पाओगे !

 

 

 

4Madan Lal Narula, Adarsh Bhushan और 2 अन्य लोग

 

1 टिप्पणी
लाइक करें
कमेंट करें
शेयर करें

 

कमेंट

 

कमेंट लिखें…




 

 

 

स्वागतं
लाइक करें
कमेंट करें
शेयर करें

 

कमेंट

 

कमेंट लिखें…




 

 

 

 

1 दिसंबर को 2:49 शाम बजे  · 

दोस्त के साथ साझा किया गया

कस्टम

 

 

उत्पाद देखने के लिए क्लिक करें

 

 

 

 

0:01 / 1:00

 

 

हाइड्रोपोनिक्स सतत खाद्य उत्पादन का भविष्य है । कम पानी, अधिक उपज, कम कीटनाशक और उर्वरक । @davidattenborough जानता है कि क्या चल रहा है । #urbangreenfarms
.
.

….

और देखें

 

 

  ·

मूल देखें

  ·

इस अनुवाद को रेट करें

 

 

 

 

1सुबोध सिंह चौहान

 

लाइक करें
कमेंट करें
शेयर करें

 

कमेंट

 

कमेंट लिखें…




 

 

 

 

1 दिसंबर को 1:42 शाम बजे  · 

दोस्त के साथ साझा किया गया

कस्टम

 

 

 

 

 

 

0:04 / 2:52

 

 

 

6Deepti Gupta, Manju Gupta और 4 अन्य लोग

 

लाइक करें
कमेंट करें
शेयर करें

 

कमेंट

 

कमेंट लिखें…




 

 

 

 

29 नवंबर को 1:28 शाम बजे  · 

दोस्त के साथ साझा किया गया

कस्टम

 

 

 

चित्र में ये शामिल हो सकता है: एक या अधिक लोग, वह टेक्स्ट जिसमें 'लोग कहते है अपनों के सामने थोड़ा झुक जाना चाहिए लेकिन में उन्हें कैसे समझाऊँ अपना तो वो है जो हमे किसी के सामने झुकने ही ना दे पवित्र रिश्ता' लिखा है

 

 

 

 

 

13Rama Bansal, नारायण सिंह और 11 अन्य लोग

 

1 टिप्पणी
लाइक करें
कमेंट करें
शेयर करें

 

कमेंट

 

  •  

    पीठ पर जो लगें तीर तब इतनी तकलीफ नहीं हुई,तकलीफ हुई जब देखी कमान अपनों के हाथ में

     

    •  

      लाइक करें

       

     

  •  · 
    जवाब दें
  •  · 2 सप्ताह
कमेंट लिखें…




 

 

 

 

29 नवंबर को 1:21 शाम बजे  · 

दोस्त के साथ साझा किया गया

कस्टम

 

 

 

चित्र में ये शामिल हो सकता है: वह टेक्स्ट जिसमें 'समझ ना आया ऐ जिंदगी तेरा ये फलसफा, एक तरफ कहती है सबर का फल मीठा होता है और दूसरी #hradavmaruchequiarati heguiarati तरफ कहती है वक़्त किसी का इंतजार नही करता.' लिखा है

 

 

 

 

 

14Rama Bansal, नारायण सिंह और 12 अन्य लोग

 

3 कमेंट
लाइक करें
कमेंट करें
शेयर करें

 

कमेंट

 

और 2 कमेंट देखें
कमेंट लिखें…




 

 

 

 

29 नवंबर को 11:35 पूर्वाह्न बजे  · 

दोस्त के साथ साझा किया गया

कस्टम

 

 

जरा सोचो’सर्वगुण संपन्न’ तो कोई नहीं और ‘जीवन’ जीना भी है,’ कमियों’ को ‘नकारते’ चलो, ‘सकारात्मक’ बनकर ही जियो !

 

 

 

 

 

 

 

 

 

2 दिसंबर को 11:56 पूर्वाह्न बजे  · 

दोस्त के साथ साझा किया गया

कस्टम

 

 

जरा सोचोजो ‘मिला’ है उसकी ‘कदर’ नहीं, और की ‘चाहत’ कम नहीं होती,’प्यार’ का मौसम खत्म, जीवन ‘गडमगढ़’ ही जी पाओगे !

 

 

 

4Madan Lal Narula, Adarsh Bhushan और 2 अन्य लोग

 

1 टिप्पणी
लाइक करें
कमेंट करें
शेयर करें

 

कमेंट

 

कमेंट लिखें…




 

 

 

स्वागतं
लाइक करें
कमेंट करें
शेयर करें

 

कमेंट

 

कमेंट लिखें…




 

 

 

 

1 दिसंबर को 2:49 शाम बजे  · 

दोस्त के साथ साझा किया गया

कस्टम

 

 

उत्पाद देखने के लिए क्लिक करें

 

 

 

 

0:01 / 1:00

 

 

हाइड्रोपोनिक्स सतत खाद्य उत्पादन का भविष्य है । कम पानी, अधिक उपज, कम कीटनाशक और उर्वरक । @davidattenborough जानता है कि क्या चल रहा है । #urbangreenfarms
.
.

….

और देखें

 

 

  ·

मूल देखें

  ·

इस अनुवाद को रेट करें

 

 

 

 

1सुबोध सिंह चौहान

 

लाइक करें
कमेंट करें
शेयर करें

 

कमेंट

 

कमेंट लिखें…




 

 

 

 

1 दिसंबर को 1:42 शाम बजे  · 

दोस्त के साथ साझा किया गया

कस्टम

 

 

 

 

 

 

0:04 / 2:52

 

 

 

6Deepti Gupta, Manju Gupta और 4 अन्य लोग

 

लाइक करें
कमेंट करें
शेयर करें

 

कमेंट

 

कमेंट लिखें…




 

 

 

 

29 नवंबर को 1:28 शाम बजे  · 

दोस्त के साथ साझा किया गया

कस्टम

 

 

 

चित्र में ये शामिल हो सकता है: एक या अधिक लोग, वह टेक्स्ट जिसमें 'लोग कहते है अपनों के सामने थोड़ा झुक जाना चाहिए लेकिन में उन्हें कैसे समझाऊँ अपना तो वो है जो हमे किसी के सामने झुकने ही ना दे पवित्र रिश्ता' लिखा है

 

 

 

 

 

13Rama Bansal, नारायण सिंह और 11 अन्य लोग

 

1 टिप्पणी
लाइक करें
कमेंट करें
शेयर करें

 

कमेंट

 

  •  

    पीठ पर जो लगें तीर तब इतनी तकलीफ नहीं हुई,तकलीफ हुई जब देखी कमान अपनों के हाथ में

     

    •  

      लाइक करें

       

     

  •  · 
    जवाब दें
  •  · 2 सप्ताह
कमेंट लिखें…




 

 

 

 

29 नवंबर को 1:21 शाम बजे  · 

दोस्त के साथ साझा किया गया

कस्टम

 

 

 

चित्र में ये शामिल हो सकता है: वह टेक्स्ट जिसमें 'समझ ना आया ऐ जिंदगी तेरा ये फलसफा, एक तरफ कहती है सबर का फल मीठा होता है और दूसरी #hradavmaruchequiarati heguiarati तरफ कहती है वक़्त किसी का इंतजार नही करता.' लिखा है

 

 

 

 

 

14Rama Bansal, नारायण सिंह और 12 अन्य लोग

 

3 कमेंट
लाइक करें
कमेंट करें
शेयर करें

 

कमेंट

 

और 2 कमेंट देखें
कमेंट लिखें…




 

 

 

 

29 नवंबर को 11:35 पूर्वाह्न बजे  · 

दोस्त के साथ साझा किया गया

कस्टम

 

 

जरा सोचो’सर्वगुण संपन्न’ तो कोई नहीं और ‘जीवन’ जीना भी है,’ कमियों’ को ‘नकारते’ चलो, ‘सकारात्मक’ बनकर ही जियो !

 

 

 

 

 

 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…