Home धर्म “भगवान नाम का महत्व ” प्रेरणादायक प्रसंग !

“भगवान नाम का महत्व ” प्रेरणादायक प्रसंग !

1 second read
0
0
2,634

एक शिक्षाप्रद कहानी !!!
***********************
*एक बार राजा अकबर एवं बीरबल ने मार्ग में किसी ब्राह्मण को भीख माँगते देखा।*

*राजा ने बीरबल से पूछा: ये एक ब्राह्मण होकर भी भीख मांग रहा है!*

*बीरबल ने तत्काल उतर दिया: महाराज! ये पंडित भूला हुआ है।*

*अकबर ने कहा: तो इस पंडित को रास्ते पे लाओ।*

*बीरबल ने कहा: थोड़ा समय लगेगा। कृपया तीन माह की अवधि दीजिए।*

*राजा ने स्वीकृति दे दी।*

*शाम को बीरबल ब्राह्मण के घर गया और भीख मांगने का कारण पूछा। ब्राह्मण ने कारण बता दिया।*

*बीरबल ने कहा: आप कल से प्रात: 4 बजे जागें और मेरे लिए रोजाना दो घण्टे जप करें*

*”हरे कृष्ण, हरे कृष्ण, कृष्ण कृष्ण हरे हरे!*
*हरे राम, हरे राम, राम राम हरे हरे!!”*

*ऐसा जप करने पर रोज शाम को एक स्वर्ण मुद्रा आपके घर पर पहुँचा दी जाएगी।*

*ब्राह्मण को पहले तो यह सुन कर आश्चर्य हुआ, बाद में ऐसा करना स्वीकार कर लिया।*

*पिछले जन्म के उनके पूरे कुल के संस्कार शुभ थे। सुबह 4 बजे उठने और नाम जप करने में कोई कठिनाई भी नहीं हुई। रोज शाम को एक स्वर्ण मुद्रिका मिल जाने से धीरे-धीरे ब्राह्मण धनवान हो गया। राम नाम का अभ्यास करते करते, उनके दिव्य संस्कारों ने दबे सुसंस्कारों को उभारा।*

*एक दिन ब्राह्मण ने सोचा: जब बीरबल के लिए नाम जपने से मैं कुछ धनी बन गया हूं, तब स्वयं के लिए जपने से तो मेरे लोक और परलोक दोनों धनवान हो जाएंगेे!*

*ऐसा सोच कर वो रोज दो घण्टे खुद के लिए भी जपने लगा। भगवान की ऐसी कृपा हुई कि ब्राह्मण की कामनाएं खत्म होने लगीं।*

*एक दिन ब्राह्मण ने बीरबल से कहा: आप कृपया सोने की मुद्रिका ना भेजें, मैं अब केवल अपने लिए ही जप करूंगा। राम नाम की उपासना ने मेरा विवेक एवं वैराग्य जाग्रत कर दिया है और अब मुझे कृष्ण भक्ति की लगन भी लग गई है।*
*एक दिन ब्राहमण ने अपनी पत्नी से कहा: श्री हरि कृपा से अपनी गरीबी दूर हो गई है और सब कुछ ठीक हो गया है। अब आप अनुमति दें तो मैं एकान्त में रहकर राम नाम जप की साधना करना चाहता हूँ।*

*पत्नी साध्वी थी। अत: उसने तुरन्त स्वीकृति दे दी।*

*अब ब्राह्मण देवता सतत् प्रभु स्मरण में रंग गए। साधना फलने फूलने लगी। लोग दर्शनार्थ पधारने लगे। धीरे-धीरे बात राजा तक पहुँची।*

*राजा अकबर भी एक दिन बीरबल के साथ महात्मा के दर्शन करने पधारे। लौटते समय अकबर ने कहा: महात्मन, मैं भारत का बादशाह अकबर आपसे प्रार्थना करता हूँ कि यदि आपको किसी चीज की जरूरत पड़े तो नि:संकोच संदेश भिजवाइएगा, तत्काल वह चीज़ आपको मिल जाएगी।*

*ब्राह्मण देवता मुस्कुराए और बोले: राजन, आपके पास ऐसा कुछ भी नहीं है, जिसकी मुझे जरूरत हो। हाँ, यदि आपको कुछ चाहिए, तो माँगने में संकोच मत करना।*

*बीरबल ने कहा: राजन, आपने पहचाना इनको? ये वही ब्राह्मण हैं जो तीन माह पूर्व भीख माँग रहे थे। राम नाम के जप ने एक भिखारी को सच्चा दानी बना दिया है। यह सुनकर अकबर बड़े आश्चर्य में पड़ गए!*

⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘⚘

*यह महत्व है भगवान के पवित्र नामों के जपने का! अगर हम भौतिक इच्छाओं से परे होना चाहते हैं, तो हम रोज़ाना नाम का जप करें। भगवन नाम का ये जप हमको सच्चा अमीर बना देगा!*

*चाह गई चिंता मिटी, मन हुआ बेपरवाह!*
*जिसको कुछ न चाहिए, वो है शहनशाह!*

*राम नाम की जय, कृष्ण नाम की जय,*
*हरि नाम की जय!*

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In धर्म

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…