Home कविताएं धार्मिक कविताएँ भगवान के दरबार मे सिर झुका’,’किसी और के दर पर नहीं

भगवान के दरबार मे सिर झुका’,’किसी और के दर पर नहीं

0 second read
0
0
1,196

‘भगवान के दरबार मे सिर झुका’,’किसी और के दर पर नहीं’ ,
‘जब इधर-उधर हाथ फैलाएगा ‘ तो , ‘खाली हाथ ही आना होगा ‘ ,
‘बिना भेद’ ,’ बिना बताए’ , ‘बिना कहे’ , ‘वो सबकी झोली भरता है’ ,
‘बिना तमन्ना के’ ‘तू नहीं जाता वहाँ’,’वो फिर भी’ ‘तेरा ख्याल रखता है’ |

Load More Related Articles
Load More By Tara Chand Kansal
Load More In धार्मिक कविताएँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धकेल देगा

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धक…