Home ज़रा सोचो ‘ भक्ति में विश्वास ” एक प्रेरक प्रसंग |

‘ भक्ति में विश्वास ” एक प्रेरक प्रसंग |

0 second read
0
0
1,955
*भक्ति   में   विश्वास*
कृष्ण   भोजन   के   लिए   बैठे   थे  ।   एक   दो   कौर   मुँह   में   लेते   ही   अचानक   उठ   खड़े   हुए  ।   बड़ी   व्यग्रता   से   द्वार                                               की   तरफ   भागे  ,   फिर   लौट   आए   उदास   और   भोजन   करने   लगे  ।
रुक्मणी   ने   पूछा ,”   प्रभु  ,थाली   छोड़कर   इतनी   तेजी   से   क्यों   गये   ?   और   इतनी   उदासी   लेकर   क्यों   लौट   आये  ?”
कृष्ण   ने   कहा , ”   मेरा   एक   प्यारा   राजधानी   से   गुजर   रहा   है  ।   नंगा   फ़कीर   है  ।   इकतारे   पर   मेरे   नाम   की   धुन                                        बजाते   हुए   मस्ती   में   झूमते   चला   जा   रहा   है  ।   लोग   उसे   पागल   समझकर   उसकी   खिल्ली   उड़ा   रहे   हैं  ।   उस  पर                                         पत्थर   फेंक   रहे   हैं  ।   और   वो   है   कि   मेरा   ही   गुणगान   किए   जा   रहा   है  ।   उसके   माथे   से   खून   टपक   रहा   है  ।                                             वह   असहाय   है  ,   इसलिए   दौड़ना   पड़ा   “
” तो   फिर   लौट   क्यों   आये  ?”
कृष्ण   बोले  , ”   मैं   द्वार   तक   पहुँचा   ही   था   कि   उसने   इकतारा   नीचे   फेंक   दिया   और   पत्थर   हाथ   में   उठा   लिया  ।                                         अब   वह   खुद   ही   उत्तर   देने   में   तत्पर   हो   गया   है ।   उसे   अब   मेरी   जरूरत   न   रही  ।   जरा   रूक   जाता  , *  मेरे  ऊपर                                      पूर्ण   विश्वास   रखता   तो   मैं   पहुँच   गया   होता  *
यही   पर   आकर   हम   अपने   भगवान्   पर   विश्वास   खो   देते   है  ।  भगवान्   जरा   सी   परीक्षा   लेते   है   और   हम   धैर्य   नहीं                                       रख   पाते  ।  इसलिए   अपनी   भक्ति   को   दृढ   बनाना   चाहिए  ।
Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In ज़रा सोचो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…