Home कविता प्रेम- दिलों को करीब लाता है

प्रेम- दिलों को करीब लाता है

2 second read
0
0
1,034

‘जब    दो   लोग’  ‘एक-दूसरे   पर  गुस्सा   करते   हैं ‘ , ‘चिल्लाते   क्यों   हैं ‘  ?

‘जब  दूरियाँ  बढ़  जाएँ ‘, ‘आवाज़  स्वम  तेज़   हो  जाती  है’ , ‘सोचना  नहीं  पड़ता’ ,

‘प्रेम’-  ‘दिलों  को  करीब  लाता  है ‘,  ‘फुसफुसाने  की  ज़रूरत   ही  नहीं  पड़ती ‘ ,

‘एक -दूसरे   की   आँख   में ‘ ‘ झांक   कर  समझ  जाते   है ‘ , ‘ माजरा  क्या   है’  ?

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…