Home धर्म प्रभु के प्यार मैं

प्रभु के प्यार मैं

3 second read
0
0
1,211

{ 1 } ‘कान्हा   का   रंग’   ‘ छा    गया    मन    पर’  , ‘ मैं    क्या    करूँ’   ?

‘दुनियाँ       के      सारे      दस्तूर’   ‘ भूल     गईं     हूँ ‘   –  ‘ आजकल ‘  |

 

{ 2 ‘राधा   ने’  ‘ कन्हैया    का    हाथ   क्या   पकड़ा’,

‘चतुर्मुखी      शोभा ‘    ‘ बिखरने      लगी      उनकी’   ,

‘हम    कितने   अनाड़ी     हैं’ ,  ‘जानते   हैं   फिर   भी ‘ ,

‘कान्हा     से ‘   ‘  इतनी     दूरी    बनाए      बैठे      हैं ‘|

 

{ 3 }’तू   खुद-ब-खुद ‘   ‘मेरी   साँसों    मैं   समाया   रहता   हैं ‘ ,

‘ओर   कहाँ   ढूँढूँ’  ‘ तेरी   ताबीर   को   कृष्णा ‘ – ‘ तू   ही   बता ‘  |

 

{ 4 } ‘तेरी   नियत    साफ   नहीं ‘ ,  ‘ बस    दिखावा    करके    जी   रहा   है   तू ‘  ,

‘जिस   दिन     दिखावा    बंद    कर    देगा ‘ , ‘ प्रभु’   ! अपना    बना    लेंगे    तुझे ‘  |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In धर्म

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…