Home कोट्स Spirituality Quotes प्रभु के दरबार में

प्रभु के दरबार में

0 second read
0
0
1,133
[1]

‘मुझे   लंगूर   कहते   हो ‘ , ‘ चलो  कुछ   तो   समझा   मुझे ‘  तुमने   हजूर  ,

‘लंगूर’  तो  ‘राम  के  काम  आया  था’ ,’तुम  तो’ ‘खुद के दुश्मन  बने  बैठे  हो ‘ |

[2]

‘जो  कान्हा  का  बन  कर  रह  गया’ , ‘बेड़ा  पार  हो  गया  उसका ‘ ,

‘तू  भी  उसे अपना  बना  लेता ‘, ‘कल्याण  ही  कल्याण  हो  जाता ‘ |

[3]

‘राधे  ! तुम  कहाँ  चली  गयी  थी’ , ‘कुछ  छणों  में  बेचैन  हो  गया  था  मैं ‘ ,

‘लुका-छिपी  का  खेल”खेल  रही  हो’ या’ बैचन  करने  में’ ‘मज़ा  आता  है  तुझे’  |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Spirituality Quotes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…