Home Uncategorized प्रधान मंत्री

प्रधान मंत्री

4 second read
0
0
1,132

 

देश  के  प्रधान  मंत्री  के  विषय  में  रोचक  जानकारी :-

व्यक्तिगत  रूप  से  आप   बीजेपी  के  विरोधी  हो  सकते  हैं  | बीजेपी  की  नीतियों  के  विरुद्ध  हो  सकते  हो  , यह  तो  सामान्य  प्रक्रिया  है , इसमें  कुछ  भी  गलत  नहीं  है  |

परंतु  आप  आलोचक  की  हद  पार   करके  घर्णित  निन्दक  बन कर  प्रधान-मंत्री  की  आलोचना  कैसे  कर  सकते  हैं  ?  आप  उस  व्यक्ति  की   आलोचना  कर  रहें  हैं  जो  लगभग  15  सालों  तक   सी एम  रहने  के  बाद  और  अब  प्रधान  मंत्री  रहते  हुए  भी  अपनी   तनखा (Salary )  राष्ट्र  को  दान  करता  आ  रहा  हो  और  प्रधान  मंत्री  हाउस   मे   भी  खर्चा  स्वम   उठता  आ  रहा  हो  | प्रधान  मंत्री  की  निंदा- रस  में  डूबते  समय  क्या  कभी  आपको  ख्याल  आया  है   कि  क्या  आपने  1  माह  की   तनखा   राष्ट्र   को  दान  की  है  ?

तीन  बार  गुजरात  राज्य  का  सी  एम  रहने  के  बावजूद  जिसके  पास  कोई  बड़ी  सम्पत्ति  नहीं  है  , जिसने  अपने  परिवार  को  भी   वी  आई  पी  सुविधाओं  से  महरूम   कर  रक्खा  हो  | जिस  पी एम  के  विदेशों  के  दौरों  को  आप  सिर्फ  घूमने-फिरने  का  नाम  देते  हैं  जबकि  असली  उद्देश्य  व्यापारिक  समझोते   और  आपसी  संबंध  को सुधारना होता है |

एक  66  साल  का  व्यक्ति  6  देशों  कि  यात्रा  करता  हुआ  40  महत्वपूर्ण  मीटिंग  में  भाग  लेता  है  | देश  का  पैसा   बचाने  के  लिए  ऐसी प्लानिग  करता  है  जिससे  होटल  में  कम  से  कम  रुका  जाए  और  फ्लाइट  में  ही नींद  पूरी  कर  ली  जाए – उसके  दौरे  को  आप  सिर्फ   भ्रमण  का  नाम   देते हैं |

देश  में  अधिकतर  उल्टे  कार्य  श्री  मोदी  कि  सरकार  से  पहले  हुए  हैं  जिनके  निस्तारण  की  प्रक्रिया  अब  चल  रही  है |  मोदी  सरकार  ने  2.5  वर्षों  में  54  नई  योजनाओं  का  प्रारूप  देश  को  दिया  है  जिन  पर  कार्य  हो  रहा  है ,  देश  उभर  रहा  है  , संसार   में  भारत  का  नाम  रोशन  करने  की  प्रक्रिया  तेजी  से  उभर  रही  है |  हर  छेत्र  में  कुछ  न  कुछ  होता  दिखाई  देता  है |  इतने  बड़े  देश  में  जहां  125  करोड़  देशवासी  हों ,  सिर्फ  2.5  वर्ष  में  चारों  तरफ खुशहाली  कैसे  आ  पाएगी ?

हर  काम   में  समय लगता  है |  प्रयास  जारी है  |

देश  धीरे-धीरे  आगे  बढ़  रहा  है , क्या  इतना  काफी  नहीं  है ? कृपया  प्रधान  मंत्री  की  निंदा  करने  से  पहले  अपने  गिरहवान  में  झांक  कर  देखिये , क्या  हम उसके  समकक्ष  खड़े  होने  के  लायक  भी  हैं  या  नहीं |

एक  ऐसा  व्यक्ति  जिसे  सारा  विश्व  सम्मान   दे  रहा  हो , जो  अपना  ही  देशवासी  है , आप  उसी  सम्मान  को  गलत  साबित  करने  में  जूटे  हैं |

निवेदन  है , दृष्टिकोण   बदलें , व्यक्तिगत  बुराई  पर  न  जाएँ  और  सभी  देश  हित  में  सम भाव   के  साथी  बनें  | दिन  दूर  नहीं  जब  पूरे  देश  का  मौसम  बदल  जाएगा ,  अच्छे  दिन  भी  आ  जाएंगे |  सब्र  का  बांध   टूटने  मत  दो  |

जय   हिन्द  !

|

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…