पर्यावरण पर

1 second read
0
0
1,313

व्रक्षा-रोपण’ का ‘श्री गण-व्रक्ष काट कर’ ,’कुछ जंगल’ ‘जला कर’,’नए जंगल’ ‘बसाये जा रहे हैं’ आजकल  ,

समस्त  ‘,’मानवता को’ ‘जीवन दान’ का ‘अभयदान ‘ दे , नित   नए  व्रक्ष  रोपण  करा  कर  |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In प्रेरणादायक कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…