Home Uncategorized न हम बदले न तुम बदले ,देश कैसे बदलेगा बता —

न हम बदले न तुम बदले ,देश कैसे बदलेगा बता —

3 second read
0
0
1,548

(1) ‘न   मैं   बदला ‘ ,’ न   तू   बदला’ , ‘बता   देश   कैसे   बदल   जाएगा’ ?

ओछी   सोच ,  तुच्छ    विचार  ,  एक    मैली    चादर    ओढ़े    हैं    सभी  ,

‘सारे   चने    जब    पक   जाएंगे’ , ‘शायद   तभी   बाहर    निकल   पाएंगे ‘,

‘देश   अंगड़ाई   ले   लेगा ‘, ‘नए  सूरज-चाँद  उभर  आयेंगे   इस   देश   में  ‘ |

 

(2) ‘ देश  की  आबोहवा  पर’  ‘दनादन  कैची ‘ चलाई  जा   रही   है   आजकल ,

‘लूट-खसौट’ , ‘आतंकवाद’ ,’प्रदूषण’ , ‘संकर्मण’  ‘फैला  हुआ  है देश   मैं ‘चंहुओर ,

‘बलात्कार’  , ‘ गुंडागर्दी’  , ‘ काम चोरी ‘,  ‘ बेईमानी’  – ‘ क्या   नहीं   है   देश  मैं  ?

‘सूरदास ‘ ने  तो ‘प्यार’  से ‘ बांधा  हमें ‘, ‘देख  कर  भी  अंधी  बनी  सरकार  अब ‘|

 

 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…