Home धर्म नज़र अपनी अपनी

नज़र अपनी अपनी

0 second read
0
0
1,274

        ‘किसी    भी    बात   को    हम    अक्सर ‘   ‘अपनी    निगाह    से   ही   देखते   हैं ‘  ,

‘आप   खराब   हैं ‘ , ‘तो  ‘ कपटी ‘ , ‘दुष्ट ‘ ,  ‘ बुरे ‘  ही  ‘ नज़र   आएंगे    सभी ‘,

‘आप   सत्कर्मी   हैं’  ,  तो ‘ सभी   सभ्य ‘ ,  ‘सुलझे ‘ ,  और  ‘ अच्छे   लगेगे ‘,

‘अपने   अंतर्मन    को   शुद्ध   रक्खो ‘ , ‘खुशबू ‘ ‘ नज़र   आएंगी   चारो  तरफ ‘|

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In धर्म

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…