Home कविताएं नज़र अपनी-अपनी , ख्याल अपना-अपना !

नज़र अपनी-अपनी , ख्याल अपना-अपना !

0 second read
0
0
1,135

[1]

‘सबको  अपना  बनाने  को  कोशिश  कुन्दन  बना  देगी  तुझे’ , 
‘दुश्मनी को तिलांजलि दे कर सबके दिल में जगह बना अपनी’ |

[2]

‘सभी को परखते रहते हो’                                                                                                                                                                                                 ‘समझने की कोशिश नहीं करते’,                                                                                                                                                                                       ‘सारी उम्र यूं ही निकल गयी’,                                                                                                                                                                                            ‘कुन्दन बन कर कब जियोगे बस इतना बता’ |

[3]

‘जब फिक्र करता हूँ तो खुद जलता हूँ ‘,
जब बेफिक्र रहता हूँ तो दुनियाँ जलती है’ ,
‘मौज’ रोज़ नहीं मिलती,खोज लो उसको’,
‘रोने से बचो,मस्त रहने की आदत बना ‘|

[4]

‘ख्वाबों की आंधी दिल में तूफान मचा रही है,                                                                                                                                                                        ‘टक-टक निहारती रहती हूँ उन्हें’,                                                                                                                                                                                       ‘मौला जरा उनसे गुफ्तगू करवा दे तो’ ‘                                                                                                                                                                              ‘ मन को सकूँ मिल जाएगा’ |

[5]

‘जीवन  में  प्यार  और  सत्कार  से  संवेदनशील  रहस्यों  को  समझें ‘,
‘आदर्शों  भरा  जीवन  चहुं ओर  आनंद  बिखेरने  में  देर  नहीं  करता ‘|

[6]

‘वक्त के साथ इंसान बदल गए’ ,
‘रिस्तों के ‘अंदाज़’ बदल गए ‘,
‘अपने पराए लगने लगे’ ,
‘अहसासों का दिवाला निकल गया ‘|

[7]

‘मन की बात मन में रही तो 
‘फासले बढ़ जाएंगे ‘,
‘उन्मुक्त हो बात सामने रख दी ,
‘फैसले हो जाएंगे ‘|

[8]

‘यादों की महक चार तालों में 
बंद हो नहीं सकती ‘,
‘यह अहसासों का खेल है ,
‘ध्यान आते ही चहक जाते हैं ‘|

[9]

‘इंसान हो तो इंसान से’ 
‘इंसानियत से ही मिलो’ ,
‘हैवानियत कुछ काम नहीं आती’ ,
‘सिर्फ पछताओगे “|

[10]

‘स्वस्थ सोच , स्वस्थ जीवन , स्वस्थ व्यवहार खजाने हैं हमारे’ ,
‘ इन्हें जीवन से अलग मत करना वरना पछतावा ही रह जाएगा ‘ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In कविताएं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…