Home कहानी प्रेरणादायक कहानी “नोबेल पुरुस्कार ” ‘क्या होता है , किसे मिलता है ‘ ?

“नोबेल पुरुस्कार ” ‘क्या होता है , किसे मिलता है ‘ ?

1 second read
0
0
970

नोबेल   पुरुस्कार   विश्व   का   सबसे   बड़ा   पुरुस्कार   होता    है   तथा   प्रत्येक   वर्ष  यह   उन    लोगों    को   दिया   जाता   है   ,  जिन्होने   भौतिक    शास्त्र  , रसायन    शास्त्र  , चिकित्सा  विज्ञान   ,   अर्थशास्त्र    तथा   शान्ति   के   लिए  “विश्वहित”  में   काम    किया   हो  |

सिर्फ “अर्थशास्त्र  विषय ”  को  1968  में   इसमें   जोड़   दिया   गया   था   अन्यथा   यह   पुरुस्कार    1901   से    अनवरत    प्रतिवर्ष    दिया   जा   रहा   है  |  जीवन   के   हर   छेत्र   में   उत्कर्ष   कार्य   के    लिए   नोबेल   पुरुस्कार   दिया   जाता   है  |

जब   कभी    किसी    एक    विषय   पर   पुरुस्कार   पाने    वाले    व्यक्तियों    की    संख्या    एक    से    अधिक    हो   जाती   है   तो   पुरुस्कार    स्वरूप    दी   जानेवाली   राशि    सबमें   बराबर    बाँट   दी   जाती   है  |  किसी   वर्ष   किसी    छेत्र    में    विशेष    योगदान    के   लिए   योग्य    उम्मीदवार    नहीं    होता   तो   उस    वर्ष    पुरुस्कार   नहीं    दिया   जाता   है  |

दरअसल   स्वीडन   में    जन्मे   महान    वैज्ञानिक    अल्फ्रेड  बर्न  हार्ड   नोबेल    ने    300   से    ज्यादा    खोजें    की   थी  |   उन्ही    खोजों   में    एक  डायना माइड़   की खोज   भी   थी  |  अल्फ्रेड   ने    इस   विस्फोटक   से    अकूत    धन   कमाया  |  उन्होने   एक   वसीयतनामा   लिखा   कि   मेरे    मरने    के   बाद   मेरी   सारी    जमा   राशि   एक   बैंक   में    जमा    करा   दी   जाए   व   उससे   मिलने   वाले    ब्याज    से    हर   वर्ष    भौतिक  ,   रसायन  ,  चिकित्सा ,  अर्थशास्त्र   और   विश्व   शान्ति    के   लिए    महत्वपूर्ण   कार्य   करने   वाले   को   पुरूस्कृत   किया  जाए  |

नोबेल   कि   इच्छा   के    अनुसार    उनकी   सारी   सम्पत्ति  स्वीडिश  बैंक   में    जमा  करा    दी   गयी   तथा  जून, 1900   में   पाँच   सदस्यीय   नोबेल   पुरुस्कार   फ़ाउंडेशन    स्थापित   कि   गयी  |  सन   1901   से   यह   पुरुस्कार   लगातार    वितरण    किया   जा   रहा   है  |

नोबेल    पुरुस्कार   का   वितरण    हर    साल   महान    वैज्ञानिक    कि   पुण्य    तिथि   10   दिसम्बर    को   किया   जाता   है  |  इस   पुरुस्कार   में   14   लाख   डालर   के    साथ   एक   स्वर्ण   पदक    व   प्रस्तिति -पत्र   होता   है  |

—————————जय  भारत ———–जय   हमारा   भारत ————-

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In प्रेरणादायक कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…