Home ज़रा सोचो ” नम्रता और मधुरता ” का जादू हमेशा चलता है “–{ एक प्रेरक कहानी }

” नम्रता और मधुरता ” का जादू हमेशा चलता है “–{ एक प्रेरक कहानी }

3 second read
0
0
963

 

‘नम्रता   और   मधुरता  ‘   का   जादू   हमेशा   चलता   है
( एक   प्रेरक   कहानी )
एक   राजा   था   उसने   एक   सपना   देखा   !   सपने   में   उसको   एक   परोपकारी   साधु   कह   रहा   था   कि   बेटा   कल   रात   को   तुम्हें                            एक   विषैला   सांप   काटेगा   और   उसके   काटने   से   तुम्हारी   मृत्यु   हो   जाएगी   !
वह   सर्प   अमुक   पेड़   की   जड़   में   रहता   है   वह   तुमसे   पूर्व   जन्म   की   शत्रुता   का   बदला   लेना   चाहता   है   !
सुबह   हुई  ,   राजा   सो   कर   उठा   और   अपनी   आत्मरक्षा   के   लिए   क्या   उपाय   करना   चाहिए  ?   इसे   लेकर   विचार   करने   लगा   !                   सोचते -सोचते   राजा   एक   निर्णय   पर   पहुंचा   की   ”   मधुर   व्यवहार   ”   से   बढ़कर   शत्रु   को   जीतने   वाला   और   कोई   हथियार  इस                     पृथ्वी   पर   नहीं   है   !
उसने   सर्प   के   साथ   मधुर   व्यवहार   करके   उसका   मन   बदल   देने   का   निश्चय   किया   !   शाम   होते   ही   राजा   ने   उस   पेड़   की   जड़                   से   लेकर   अपनी   सैया   तक   फूलों   का   बिछोना   भिजवा   दिया   !   सुगंधित   जल   का   छिड़काव   करवाया   !   नीचे   दूध   के   कटोरे                             जगह-जगह   लगवा   दिए   और   सेवकों   से   कह   दिया   कि   रात   को   जब   वह   निकले   तो   कोई   उसे   किसी   प्रकार   कष्ट   पहुंचाने   की                     कोशिश   ना   करें   !
रात   को   सांप   अपनी   बाम्बी   के   बाहर   निकला   और   राजा   के   महल   की   तरफ   चल   दिया   !   वह   जैसे   आगे   बढ़ता   गया , अपने                     लिए   की   गई   स्वागत   व्यवस्था   को   देखकर   आनंदित   होता   गया   !
कोमल   बिछोने   पर   लेटता   हुआ   मन   भावनी   सुगंध   का   रसास्वादन   करता   हुआ  ,   जगह-जगह   पर   मीठा   दूध   पीता   हुआ    आगे                   बढ़ता   था   !   इस   तरह   क्रोध   के    स्थान   पर   संतोष   और   प्रसन्नता   के   भाव   उसके   अंदर   बढ़ने   लगे   जैसे   जैसे   आगे   चलता  गया                   वैसे   ही   वैसे   उसका   क्रोध   कम   होता   गया   !
राज   महल   में   जब   वह   प्रवेश   करने   लगा   तो   देखा   कि   प्रहरी   और   द्वारपाल   सशस्त्र   खड़े   हैं   परंतु   उसे   जरा   भी   हानि   पहुंचाने   की              चेष्टा   नहीं   कर   रहे   हैं   !   यह   असाधारण   से   लगने   वाले   दृश्य   देखकर   आपके   मन   में   स्नेह   उमड़   पड़ा   !
‘सद- व्यवहार  ,   नम्रता   और   मधुरता ‘   के   जादू   ने   उसे   मंत्रमुग्ध   कर   दिया   था   !   कहां   वह   राजा   को   काटने   वाला   था   परंतु   अब              उसके   लिए   अपना   कार्य   असंभव   हो   गया   !   हानि   पहुंचाने   के   लिए   आने   वाले   शत्रु   के   साथ   जिसका   ऐसा   मुझसे   व्यवहार   है                        वह   धर्मात्मा   राजा   को   कार्टू   तो   किस   प्रकार   कार्टू   ?   इसके   चलते   वह   दुविधा   में   पड़   गया   !
राजा   के   पलंग   तक   पहुंचने   तक   सांप   का   निश्चय   पूरी   तरह   से   बदल   गया   !   उधर   समय   से   कुछ   देर   बाद   सांप   राजा   के                        शयनकक्ष   में   पहुंचा   !
सांप   ने   राजा   से   कहा   ! ”   राजन  ,   मैं   तुम्हें   काट   कर   पूर्व   जन्म   का   बदला   चुकाने   आया   था   परंतु   तुम्हारे   स्नेह  ,   नम्रता  और                  सद  व्यवहार   ने   मुझे   परास्त   कर   दिया   !
अब   मैं   तुम्हारा   शत्रु   नहीं   मित्र   हूं   !   मित्रता   के   उपहार   स्वरूप   अपनी   बहुमूल्य   मणि   मैं   तुम्हें   दे   रहा   हूं   !   लो   इसे   अपने   पास                रखो   !   इतना   कह  कर  ‘ मणि ‘ ‘ राजा   के   सामने   रखकर   सांप   चला   गया   !
यह   महज   एक   कहानी   नहीं   जीवन   की   सच्चाई   है   !’  अच्छा   व्यवहार’   कठिन   से   कठिन   कार्यों   को   सरल   बनाने   का   माद्दा   रखता   है   !
यदि   व्यक्ति   व्यवहार – कुशल   है   तो   वह   सब   कुछ   पा   सकता   है   जो   पाने   की   वह   हार्दिक   इच्छा   रखता   है   !
Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In ज़रा सोचो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…