Home कविताएं प्रेरणादायक कविता ‘नकारात्मक संकल्पों से बचो ‘

‘नकारात्मक संकल्पों से बचो ‘

0 second read
0
0
1,192

कल   क्या   होगा’ ,’ मेरे  से  नहीं  होगा’ ,’ये  तो  बहुत  मुस्किल   है ‘,

न0  कम  आए  तो   माँ -बाप   क्या  सोचेंगे’ , ‘दोस्त   क्या   सोचेंगे  ?

‘पढ़ाई  नहीं होती ‘,’तनाव  में हूँ ,’ ‘याद नहीं रहता ,’ व्यर्थ के संकल्प हैं ‘,

‘ये  सब  नकारात्मक  संकल्पों  का  चक्र व्यूह  है ‘,’ हम   फंसे  रहते है ‘ ,

‘ज्ञानेन्द्रियों  का  सदुपयोग   करो ‘, ‘परिणाम  को परिभाषित  मत  करो ‘,

‘किसी सफल व्यक्ति  की  शरण  में  जाओ’ , ‘द्रढ़   हो  कर  सफल   बनो ‘ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In प्रेरणादायक कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…