Home कविताएं “नई सोच से चलिये जनाब ‘! जरा विचारिए !

“नई सोच से चलिये जनाब ‘! जरा विचारिए !

2 second read
0
0
956

[1]

‘हाथ   की   लकीरों   में   रंग   भरने   की   ताबीर   तो   कर ‘,
‘ढीला रह कर जी नहीं सकता ‘,’ताबड़तोड़ मेहनत की जरूरत है ‘|

[2]

‘हर  समय  गर्मी  खाते  रहे  तो  एक  दिन  टूट  जाओगे ‘,
‘ठंडा लोहा मजबूती का सबूत है ,’कोई तोड नहीं सकता उसे ‘|

[3]

‘पहले रिस्ता जताया फिर निभाया ‘,
‘ये उत्तमता का सबूत नहीं,’
‘पहले रिस्ते को स्नेह से भिगोते’ ,
‘फिर देखते रिस्तों का मज़ा ‘|

[4]

‘हालात कैसे भी हों समझौता कर लेता हूँ’                                                                                                                                                                               ‘इसीलिए खुश हूँ ‘,
‘जीवन में दुःख न आयें तो सुख को’ 
‘परिभाषित कैसे करेंगे ,सोचो जरा ‘|

[5]

‘अपना दर्द छिपा कर मुस्कराने की कला  सीख लेना जरूरी है ‘,
‘रिस्तों  में  अपनापन  बनाए  रखने  का  ये  पक्का  उसूल  है ‘|

[6]

‘लोग पत्थर दिल हो गए हैं ‘,
‘किसी के दुःख-सुख से सरोकार नहीं ‘,
‘करोड़ों तारीखें बदलती गयी’ ,
‘मानव-पत्थर दिल होता चला गया ‘|

[7]

‘विश्वास’ -प्रातः ही कहता है’ ,
‘आज कुछ करो ,शुभ ही रहेगा ‘,
‘मैं हिल गया’ तो तुम जैसे हो जहां हो’ ,
‘वैसे भी नहीं रह पाओगे ‘|

[8]

‘अपना वक्त क्या बदला ‘,
‘लोगों का विश्वास डगमगा गया हम पर,’
‘जो न्योछावर रहते थे हम पर’,
‘छिटक कर जाने लगे सारे ‘|

[9]

‘कसमसा  कर  क्यों  जी  रहे  हो   यारों’                                                                                                                                                                              ‘कुछ  तो   हल   निकालो’ ,
‘जीवन  में  यूं  अकड़  कर  निकलोगे  तो’                                                                                                                                                                            ‘अनाम  रह  कर  खतम  हुआ  समझो’ |
[10]
 ‘दुश्मनों  पर  विजय  पाने  का  सबका  प्रयास  रहता  है ‘,
‘हुज़ूर ! अपनी इच्छाओं पर विजय पा कर दिखाओ तो जानें ‘|
Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In कविताएं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…