Home कविताएं देशभक्ति कविता धूम धड़ाके से पद-भार संभाले जाते हैं

धूम धड़ाके से पद-भार संभाले जाते हैं

1 second read
0
0
1,258

‘धूम धड़ाके से’ ‘‘पद-भार’ ‘ संभाले जाते हैं’ ,
‘सहजता’ से ‘पद –त्याग’ ‘ कोई नहीं करता’ ,
‘आचरण की बात ‘ तो ‘मोदी सरीखा ही करे’ ,
‘रण-बांकुरों से’ ‘देश खाली हो गया है’, ‘देख लो’ |

Load More Related Articles
Load More By Tara Chand Kansal
Load More In देशभक्ति कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धकेल देगा

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धक…