Home कविताएं धार्मिक कविताएँ धार्मिक कवितायें —छंद

धार्मिक कवितायें —छंद

0 second read
0
0
1,240

‘मन  की  आंखे  खोल’ , ‘प्रभु का दीदार कर’ ,

‘दो  पल  का अंधेरा है’, ‘सुबह का इंतज़ार कर’ ,

‘बैर’ , ‘दुश्मनी’ ,’क्रोध’‘करके क्या मिलेगा तुझे’ ,

‘छोटी  सी  जिंदगी है’ , ‘हर किसी से प्यार कर’ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In धार्मिक कविताएँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…